Congress Rally: महंगाई के खिलाफ अब कांग्रेस 12 दिसंबर को जयपुर में करेगी रैली, दिल्ली में नहीं मिली इजाजत

Congress Rally केसी वेणुगोपाल ने कहा कि भाजपा महंगाई के खिलाफ दिल्ली में रैली नहीं करने दे रही है। बड़ी मशक्कत के बाद द्वारका में रैली की अनुमति दी थी। कांग्रेस ने रैली की तैयारी भी प्रारंभ कर दी थी लेकिन केंद्र ने रैली की अनुमति खारिज करवा दिया।

Sachin Kumar MishraWed, 01 Dec 2021 08:37 PM (IST)
सोनिया गांधी, अशोक गहलोत और राहुल गांधी। फाइल फोटो

जागरण संवाददाता, जयपुर। महंगाई के खिलाफ 12 दिसंबर को दिल्ली में होने वाली रैली अब जयपुर में होगी। रैली को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सहित अन्य नेता संबोधित करेंगे। रैली की तैयारियों का जायजा लेने के लिए संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल व प्रदेश प्रभारी अजय माकन तीन तारीख को जयपुर आएंगे। दोनों नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के साथ रैली के स्थान और भीड़ एकत्रित करने को लेकर बैठक करेंगे। रैली में राजस्थान के अतिरिक्त देश के सभी राज्यों से भी कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल होंगे। वेणुगोपाल ने आरोप लगाया है कि भाजपा महंगाई के खिलाफ दिल्ली में रैली आयोजित नहीं करने दे रही है। बड़ी मशक्कत के बाद द्वारका में रैली की अनुमति दी थी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने रैली की तैयारी भी प्रारंभ कर दी थी, लेकिन सुनियोजित षड्यंत्र के तहत केंद्र सरकार ने दिल्ली के उपराज्यपाल पर दबाव बनाकर द्वारका में होने वाली रैली की अनुमति खारिज करवा दिया। इस कारण अब रैली जयपुर में होगी। डोटासरा ने एक बयान में कहा कि केंद्र सरकार महंगाई कम करने में नाकाम रही है। अब जब कांग्रेस जनता की आवाज उठाना चाहती है तो देश की राजधानी दिल्ली में रैली नहीं करने दे रही है। ऐसे में जयपुर में रैली कर महंगाई के खिलाफ कांग्रेस देशभर में अभियान छेड़ेगी।

गौरतलब है कि दो साल बाद होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस ने अशोक गहलोत सरकार के मंत्रियों को आम जनता व पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ निरंतर संपर्क रखने की जिम्मेदारी सौंपी है। पार्टी ने तय किया है कि 15 दिसंबर से प्रत्येक सप्ताह में तीन दिन मंत्री जयपुर स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में बैठकर जन समस्याएं सुनेंगे। सोमवार से बुधवार तक मंत्रियों को सुबह 11 से दोपहर दो बजे तक जनसुनवाई कर समस्याओं का निपटारा तय समय सीमा में करना होगा । इसके साथ ही मंत्रियों को महीने में दो दिन अपने प्रभार वाले जिलों और जयपुर में रहने पर प्रतिदिन सुबह एक घंटा अपने आवास पर जनसुनवाई करनी होगी। मंत्रियों को जिलों के दौरों पर जाते समय संगठन को सूचना देनी होगी, उनकी जनसुनवाई में पार्टी पदाधिकारी साथ रहेंगे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं से फीडबैक लेकर विभागों में निर्णय करने की जिम्मेदारी भी मंत्रियों को दी गई है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.