REET 2021: रीट-2021 से संबंधित समस्त सेवाएं 20 से 30 सितंबर तक अत्यावश्यक सेवाएं घोषित

REET 2021 राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा 2021 के सफल आयोजन के लिए राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर के समस्त कार्यालय तथा रीट-2021 से संबंधित समस्त सेवाओं को 20 से 30 सितंबर 2021 तक अत्यावश्यक सेवा घोषित किया गया है।

Sachin Kumar MishraMon, 20 Sep 2021 05:40 PM (IST)
रीट-2021 से संबंधित समस्त सेवाएं 20 से 30 सितंबर तक अत्यावश्यक सेवाएं घोषित। फाइल फोटो

नई दिल्ली/जयपुर। राजस्थान सरकार ने राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 के सफल आयोजन के लिए राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर के समस्त कार्यालय तथा रीट-2021 से संबंधित समस्त सेवाओं को 20 से 30 सितंबर , 2021 तक अत्यावश्यक सेवा घोषित कर दिया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की मंजूरी के बाद गृह विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है। गृह विभाग ने स्कूल शिक्षा विभाग तथा समन्वयक व सचिव रीट-2021 के प्रस्ताव पर राजस्थान अत्यावश्यक सेवाएं अनुरक्षण अधिनियम, 1970 (1970 का राजस्थान अधिनियम संख्या 22) की धारा 2 की उपधारा (i) के खंड (क) के उप-खंड (ii) व (iv) के अंतर्गत प्रदान की गई शक्तियों का प्रयोग करते हुए 20 सितंबर, 2021 से 30 सितंबर , 2021 तक राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर के समस्त कार्यालय तथा रीट-2021 परीक्षा से संबंधित सभी सेवाओं को एतद्द्वारा अत्यावश्यक सेवाएं घोषित करने संबंधी अधिसूचना जारी कर दी है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) के सफल आयोजन के लिए पूर्व में भी वर्ष 2016 एवं वर्ष 2018 में अत्यावश्यक सेवाएं घोषित किए जाने के संबंध में अधिसूचनाएं जारी की गई हैं।

भाषा और फोटो से जुड़ी त्रुटियों को रीट परीक्षार्थी 21 सितंबर तक करा सकेंग संशोधन

अजमेर से संवाद सूत्र के मुताबिक, अगले सप्ताह यानी 26 सितंबर को होने वाली राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) के प्रवेश पत्रों में रही त्रुटियों का संशोधन 21 सितंबर की रात 12 बजे तक संभव हो सकेगा। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष डा डीपी जारोली ने बताया कि अभ्यर्थी प्रवेश पत्र में भाषा और फोटो की संबंधित त्रुटियों को 21 सितंबर की रात तक आनलाइन सुधरवा सकेंगे। इसके लिए अभ्यर्थियों को बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर ही सुधार करना होगा। 21 सितंबर तक त्रुटि सुधारने की एवज में किसी भी अभ्यर्थी से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। जारोली ने स्पष्ट किया कि यह सुधार सिर्फ भाषा और फोटो से संबंधित ही होगा। इसके अतिरिक्त अन्य त्रुटियों को सुधारने के लिए बोर्ड के पूर्व के नियमों के अनुरूप आवेदन करना होगा। यानी गलतियों को सुधारने के लिए 300 रुपए का निर्धारित शुल्क बोर्ड में जमा कराना होगा।

प्रवेश पत्र में त्रुटियों के लिए बोर्ड जिम्मेदार नहीं है। परीक्षा आवेदन के साथ ही बोर्ड ने प्रवेश पत्र को भरने का दायित्व भी अभ्यर्थियों को ही दिया था। अभ्यर्थियों ने जो प्रवेश पत्र तैयार किया उस पर सिर्फ परीक्षा केंद्र और रोल नंबर अंकित किया गया है। अब यदि प्रवेश पत्र में त्रुटि नजर आ रही है तो इसके लिए अभ्यर्थी स्वयं जिम्मेदार हैं। रीट परीक्षा देने वाले अभ्यर्थी ही शिक्षक बनेंगे। जो अभ्यर्थी शिक्षक बन रहा है उसे आवेदन करते समय अपने प्रवेश पत्र की जांच तो अच्छी तरह करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि रीट परीक्षा तीन बार स्थगित हुई है। बोर्ड ने हर बार परीक्षार्थियों को गलती सुधारने का अवसर दिया, लेकिन अभ्यर्थियों ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई, अब जब 26 सितंबर को परीक्षा होने जा रही है, तो हंगामा खड़ा किया जा रहा है। 44 हजार ऐसे अभ्यर्थी हैं, जिन्होंने एक से अधिक परीक्षा आवेदन किए हैं। यानी ऐसे अभ्यर्थी उस स्थान पर परीक्षा देते जहां नकल करने की व्यवस्था हो जाती। ऐसे सभी अभ्यर्थियों की पहचान कर ली गई है। एक आवेदन को छोड़कर सभी ने परीक्षा केंद्र दूर स्थान पर आवंटित किए गए हैं।

अभ्यर्थियों को दूसरे जिले में परीक्षा केंद्र बनाए जाने का भी मुद्दा उठाया जा रहा है। जबकि हकीकत यह है कि 16 लाख अभ्यर्थियों में से मात्र छह लाख अभ्यर्थियों को ही गृह जिले से दूसरे जिले में भेजा गया है। यानी छह लाख अभ्यर्थी ही दूसरे जिले में परीक्षा देने जाएंगे। शेष दस लाख अभ्यर्थियों के परीक्षा केंद्र उनके गृह जिले में ही बनाए गए हैं। गृह जिले वाले अभ्यर्थी अपने साधनों से ही परीक्षा केंद्रों तक पहुंच सकते हैं। दो लाख सत्तर हजार अभ्यर्थी दूसरे राज्यों के हैं। ऐसे बाहरी अभ्यर्थियों को दूर के परीक्षा केंद्र आवंटित किए हैं, जो अभ्यर्थी राजस्थान से बाहर के राज्य से परीक्षा देने आ सकता है वह अन्य जिले में भी परीक्षा देने के लिए जा सकता है। भरतपुर जिले में एक लाख आठ हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है, जबकि भरतपुर जिले की क्षमता 58 हजार अभ्यर्थियों की है। स्वाभाविक है कि ऐसे में भरतपुर के अभ्यर्थियों को दूसरे जिले में भेजा जाएगा।

12 अक्टूबर तक परिणाम

रीट परीक्षा को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी गंभीर है। मुख्यमंत्री ने भी बोर्ड को परीक्षा के लिए आवश्यक निर्देश दिए हैं। यदि सभी का सहयोग मिलता रहा तो वे परीक्षा के पन्द्रहवें दिन रीट का परिणाम घोषित कर देंगे। यानी 26 सितंबर को परीक्षा संपन्न हो जाने के बाद 12 अक्टूबर तक परिणाम आ जाएगा। अभी तक परीक्षा की सभी तैयारियां सुचारू चल रही है। रीट की परीक्षा राजस्थान की सबसे बड़ी परीक्षा है। अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में कितनी गड़बड़ियां सामने आ रही है, ऐसे में बोर्ड के सामने भी इतनी बड़ी परीक्षा को कराने की चुनौती है।

हड़ताल पर रोक

जो सरकारी विभाग रीट परीक्षा के आयोजन से जुड़े हुए हैं, उनके कार्मिकों की हड़ताल पर राज्य सरकार ने 20 सितंबर को रोक लगा दी है। मालूम हो कि रीट परीक्षा से शिक्षा विभाग और पुलिस के कार्मिक ज्यादा जुड़े हुए हैं। प्रश्न पत्रों की निगरानी का काम प्रशासनिक अधिकारियों को दिया गया है। रीट परीक्षा में 16 लाख अभ्यर्थियों की संख्या को देखते हुए रोडवेज ने 20 सितंबर से ही परीक्षार्थियों को निःशुल्क यात्रा की सुविधा शुरू कर दी है। यह सुविधा आगामी 30 सितंबर तक रहेगी। रोडवेज के सूत्रों ने बताया कि यात्रा करते समय अभ्यर्थी को अपना प्रवेश पत्र दिखाना होगा। बस का कंडक्टर प्रवेश पत्र पर यात्रा का विवरण लिखने के साथ साथ हस्ताक्षर भी करेगा ताकि एक प्रवेश पत्र का दोबारा उपयोग न हो। हालांकि इसमें रोडवेज को भारी मशक्कत करनी पड़ेगी, क्योंकि 26 सितंबर को परीक्षा समाप्ति के बाद अभ्यर्थी बसों की छतों पर सवार हो जाते हैं। इसी प्रकार प्रवेश पत्र की फोटो प्रति पर निःशुल्क यात्रा करने की आशंका भी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.