सिविल अस्पताल में युवाओं की भीड़ देख स्टाफ के हाथ पांव फूले, बुलानी पड़ी पुलिस

सिविल अस्पताल में युवाओं की भीड़ देख स्टाफ के हाथ पांव फूले, बुलानी पड़ी पुलिस

जिले के सिविल अस्पताल में शुक्रवार को 1500 से अधिक युवा पहुंच गए। युवाओं की भीड़ देखकर अस्पताल का स्टाफ हैरान हो गया और उनके हाथ पांव फूल गए।

Publish Date:Fri, 15 Jan 2021 04:28 PM (IST) Author: Jagran

जासं, तरनतारन : जिले के सिविल अस्पताल में शुक्रवार को 1500 से अधिक युवा पहुंच गए। युवाओं की भीड़ देखकर अस्पताल का स्टाफ हैरान हो गया और उनके हाथ पांव फूल गए। दरअसल, जालंधर में 17 जनवरी से सेना भर्ती रैली शुरू होनी है। इसके लिए जिले के अलग-अलग हेल्थ सेंटरों पर तीन दिनों में इन युवाओं ने कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल दिए थे।

वहां पर रिपोर्ट पहुंचने में थोड़ी देरी हो गई। इस कारण इतनी अधिक संख्या में युवा सिविल अस्पताल में पहुंच गए। युवाओं की भीड़ जब बेकाबू होने लगी तो अस्पताल के महिला स्टाफ ने उनको समझाया। परंतु युवा अपनी रिपोर्ट लेने पर अड़े रहे। इसके बाद अस्पताल के महिला स्टाफ ने काम ठप कर दिया। फिर एसएमओ डा. स्वर्णजीत धवन मौके पर पहुंचे व युवाओं को समझाने का प्रयास किया। बाद में सिविल सर्जन डा. रोहित मेहता ने मामला पुलिस के ध्यान में रखा तो पुलिस मौके पर पहुंची और युवाओं को यह कहते हुए वापस भेज दिया गया कि जिस सेटर पर उन्होंने कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल दिए है, वहीं पर उन्हें रिपोर्ट मिलेगी। युवा बोले, कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट में सेहत विभाग ने देरी की

युवा जगजीत सिंह, हरमनजीत सिंह, मनविंदर सिंह, इंद्रजीत सिंह, संदीप सिंह, बलविंदरपाल सिंह, गुरविंदर सिंह ने बताया कि 17 जनवरी को उन्होंने सेना फौज की भर्ती में शामिल होना है। तीन दिन में उन्होंने कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल दिए थे। रिपोर्ट के बिना वहां एंट्री नहीं होनी है। परंतु सेहत विभाग ने अभी तक उनको रिपोर्ट नहीं दी। इस कारण वे रिपोर्ट लेने आए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.