रिश्वत मामले की विजिलेंस ने जांच शुरू की तो थाना प्रभारी भट्टी छुट्टंी पर गए

सुखदेव सिंह ने विजिलेंस को थाना झब्बाल के एसएसओ पर तीन लाख की रिश्वत लेने की शिकायत को दी है।

JagranWed, 24 Nov 2021 08:04 PM (IST)
रिश्वत मामले की विजिलेंस ने जांच शुरू की तो थाना प्रभारी भट्टी छुट्टंी पर गए

जासं, तरनतारन: गाव वलीपुर निवासी सुखदेव सिंह ने विजिलेंस ब्यूरो को थाना झब्बाल के एसएसओ इंस्पेक्टर जसवंत सिंह भट्टी पर तीन लाख की रिश्वत लेने के बावजूद हर महीने और पैसे मागने की शिकायत दी है। विजिलेंस ने जब मामले की जाच शुरू की तो थाना प्रभारी छुट्टी पर चले गए। हालाकि उन्होंने रिश्वत के आरोपों को सिरे से नकार दिया।

विधानसभा हलका खडूर साहिब के गाव वलीपुर निवासी सुखदेव सिंह ने विजिलेंस ब्यूरो को भेजी शिकायत में आरोप लगाया कि तीन माह पहले अमृतसर रोड स्थित एक पैलेस ठेके पर लिया था। पैलेस में फास्टफूड का काम भी किया जाता है। पैलेस में थाना सिटी के तत्कालीन प्रभारी इंस्पेक्टर जसवंत सिंह भट्टी (अब थाना झब्बाल में पोसटड) ने महिला पुलिस कर्मियों को साथ लिए बिना ही छापामारी की। कुछ महिला ग्राहकों को थाने लाया गया। थाना प्रभारी ने सुखदेव सिंह से कहा कि देहव्यापार का धंधा चलाने बाबत मुकदमा दर्ज किया जाएगा। थाना प्रभारी ने तीन लाख की रिश्वत भी ली, इतना ही नहीं एएसआइ तरसेम सिंह ने कहा कि अगर पैलेस चलाना है तो हर महीने पैसे देने पड़ेंगे। सुखदेव सिंह ने पुलिस से तंग आकर पैलेस का ठेका छोड़ दिया और विजिलेंस ब्यूरो को शिकायत की।

विजिलेंस के स्थानीय अधिकारियों ने मामले की जाच शुरू की तो बुधवार को इंस्पेक्टर जसवंत सिंह भट्टी छुट्टी लेकर चले गए। हालाकि उन्होंने दावा किया कि मैंने किसी से रिश्वत नहीं ली। बेवजह झूठे आरोप लगाए जा रहे है। विजिलेंस ब्यूरो के एसएसपी परमपाल सिंह कहते हैं कि किसी भी मामले की जाच मुकम्मल होने से पहले जानकारी देना मुनासिब नहीं। तरनतारन के एसएसपी हरविंदर सिंह विर्क कहते है मेरी पोसटिंग से पहले का यह मामला हो सकता है। हालाकि सुखदेव सिंह ने मुझे कोई शिकायत नहीं दी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.