दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

एनएचएम मुलाजिमों ने धरना देकर की नारेबाजी

एनएचएम मुलाजिमों ने धरना देकर की नारेबाजी

नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) कर्मियों ने रेगुलर करने या रेगुलर मुलाजिमों के बराबर पे-स्केल देने की मांग को लेकर सिविल सर्जन कार्यालय समक्ष धरना लगाकर राज्य सरकार विरुद्ध प्रदर्शन किया।

JagranMon, 10 May 2021 08:07 PM (IST)

जासं, तरनतारन : नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) कर्मियों ने रेगुलर करने या रेगुलर मुलाजिमों के बराबर पे-स्केल देने की मांग को लेकर सिविल सर्जन कार्यालय समक्ष धरना लगाकर राज्य सरकार विरुद्ध प्रदर्शन किया। इसके बाद कर्मियों ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के नाम पर सिविल सर्जन डा. रोहित मेहता को ज्ञापन सौंपा। सुहावा सिंह, मंदीप सिंह, जसबीर सिंह ने धरने की अगुआई करते कहा कि 10 से 12 वर्ष के दौरान वे कम वेतन पर ड्यूटी कर रहे है। इतनी तनख्वाह में परिवार का पेट पालना मुश्किल है। कोरोना काल के दौरान एनएचएम के कई कर्मी भी पाजिटिव आ चुके हैं। सरकार की ओर से न तो उनको पक्का किया जा रहा है और न ही उनको पक्के मुलाजिमों की तर्ज पर पे-स्केल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से रेगुलर स्केल देने के बजाय वेतन में नौ फीसद बढ़ोतरी करने का जो फैसला किया गया है, वे मजाक से कम नहीं है।

इस अवसर पर सुखबीर कौर, अमरजीत कौर, राजिदर कौर, जैसमीन सिंह, तरसेम सिंह, करणजीत सिंह, नीरज कुमार, कर्मजीत कौर, अमनदीप सिंह, रितेश वालिया, परमिदर सिंह ने मौजूद थे। सेहत कर्मी अपनी सेहत

प्रति नहीं है गंभीर जिले में कोरोना का दौर लगातार बढ़ रहा है। लोगों को कोविड नियमों का पाठ पढ़ाने वाले सेहत विभाग के कर्मी खुद लापरवाही बरत रहे है। मंगलवार को मांगों को लेकर लगाए गए धरने मौके एनएचएम कर्मियों ने न तो शारीरिक दूरी का पालन किया और न ही सैनिटाइजर का प्रयोग किया। हालांकि कर्मियों ने मास्क जरूर लगाए हुए थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.