दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

सफाई कर्मियों ने सरकार से की पक्का करने की मांग

सफाई कर्मियों ने सरकार से की पक्का करने की मांग

मांगों को लेकर सफाई कर्मचारी यूनियन ने नगर कौंसिल कार्यालय के समक्ष तीसरे दिन भी हड़ताल रखी।

JagranSun, 16 May 2021 07:30 AM (IST)

जासं, तरनतारन : मांगों को लेकर सफाई कर्मचारी यूनियन ने नगर कौंसिल कार्यालय के समक्ष तीसरे दिन भी हड़ताल जारी रखी। कोविड नियमों का पालन करते हुए शरीरिक दूरी बनाकर व मास्क पहनकर बैठे कर्मचारियों ने कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। यूनियन अध्यक्ष रमेश शेरगिल ने कहा कि सफाई कर्मी और सीवरमैनों को पक्का करने का लारा लगाया जा रहा है। रिस्क बीमा की किश्त जमा नहीं करवाई जा रही। निजीकरण को बढ़ावा देते हुए ठेकेदारी सिस्टम चलाया जा रहा है। दो-दो माह तक वेतन नहीं दिया जा रहा। कर्मियों ने पुरानी पेंशन नीति लागू करने, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, वेतन का बकाया जारी करने की मांग की गई। इस मौके पर राकेश कुमार, निशान सिंह, नरिदर निदी, नंद लाल, गुरदयाल सिंह, अजीत सिंह, काला सिंह, राम प्रकाश, राज कुमारी के अलावा अन्य लोग भी उनके साथ मौजूद थे। सांझा अध्यापक मोर्चा ने मंत्री सोनी को सौंपा मांग पत्र

सांझा अध्यापक मोर्चा द्वारा निर्धारित प्रोग्राम के तहत प्रदेश संयोजक बलकार वल्टोहा, अश्वनी अवस्थी, बलजिदर वडाली, गुरदीप सिंह बाजवा की अगुआई में कैबिनेट मंत्री ओपी सोनी को मांगों को लेकर पत्र सौंपा गया। अश्वनी अवस्थी ने कहा कि पांच मार्च 2019 को कैबिनेट मीटिग में स्वीकार की गई मांगों को सरकार जल्द लागू करें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर रोक लगाई जाए। अन्य अध्यापक मसले तुरंत हल किए जाएं। यहां मलकीत सिंह कदिगल, राकेश धवन, सुच्चा सिंह, गुरबिदर खैहरा, दिलराज सिंह, लखविदर गिल, गुरदेव सिंह बासरके, सुरेश कुमार, जतिदर पाल, हरजाप सिंह, मंजीत सिंह, कुलदीप सिंह तोला नंगल के अलावा अन्य गणमान्य आदि मौजूद थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.