आजीविका मिशन से जुड़ी महिलाओं को 3.33 करोड़ की बांटी सहायता राशि : डीसी

आजीविका मिशन से जुड़ी महिलाओं को 3.33 करोड़ की बांटी सहायता राशि : डीसी

पंजाब राज देहाती ाजीविका मिशन के तहत जिले में कुल 1734 स्वयंसहायता समूहों का गठन किया जा चुका है। इसमें 17356 महिलाएं शामिल हैं।

Publish Date:Mon, 25 Jan 2021 07:03 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, तरनतारन : पंजाब राज देहाती ाजीविका मिशन के तहत जिले में कुल 1734 स्वयंसहायता समूहों का गठन किया जा चुका है। इसमें 17356 महिलाएं शामिल हैं। यह जानकारी डिप्टी कमिश्नर कुलवंत सिंह धूरी ने देते हुए बताया कि इस मिशन के तहत 3 करोड़ 33 लाख रुपये की राशि स्वयंसहायता समूहों को जारी की गई है, जिससे वह अपनी आजीविका के साधनों में बढ़ोतरी कर रही हैं।

उन्होंने बताया कि पंजाब राज देहाती आजीविका मिशन भारत व पंजाब सरकार की ओर से चलाया जा रहा साझा मिशन है। इसके तहत गरीब परिवारों की महिलाओं को स्वयंसहायता समूहों में जोड़ा जाता है। इनके माध्यम से महिलाओं में बचत की आदत को बढ़ाया दिया जाता है और सरकार की ओर से भी समय-समय पर आर्थिक मदद की जाती है ताकि महिलाओं द्वारा छोटे-छोटे स्वरोजगार के कारोबार को चलाया जा सके। इससे वह अपने परिवार की आमदन में बढ़ोतरी कर सकेंगी और गरीबी रेखा से ऊपर उठ सकेंगी। ब्लाक वल्टोहा व चोहला साहिब का चयन एसवीईपी प्रोजेक्ट के लिए

डीसी धूरी ने बताया कि इस मिशन के तहत साल 2020-21 के दौरान जिला तरनतारन के ब्लाक वल्टोहा व चोहला साहिब का चयन स्टार्ट अप विलेज इंटरप्रिन्यशिप प्रोग्राम (एसवीईपी) प्रोजेक्ट के लिए सरकार द्वारा किया गया है। इस प्रोजेक्ट के अधीन गांव स्तर पर लोगों को रोजगार से जोड़ा जाएगा। स्टार्टअप विलेज इंटरप्रिन्यशिप प्रोग्राम प्रोजेक्ट पूरे भारत में 33 ब्लाकों के लिए केंद्र सरकार द्वारा मंजूर किया गया है जिनमें जिला तरनतारन के दो ब्लाक चोहला साहिब व वल्टोहा को भी प्रवान किया गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.