संक्रमितों पर नजर रखेगा सेहत विभाग, रोजाना ली जाएगी रिपोर्ट

संक्रमितों पर नजर रखेगा सेहत विभाग, रोजाना ली जाएगी रिपोर्ट

सड़क पर बिना मास्क पहनने वालों के कोविड सैंपल लेकर प्रशासन द्वारा उनकी निगरानी नहीं करने के मामले में बरती जा रही लापरवाही पर जिला प्रशासन की नींद खुल गई।

JagranWed, 21 Apr 2021 05:30 AM (IST)

धर्मबीर सिंह मल्हार, तरनतारन : सड़क पर बिना मास्क पहनने वालों के कोविड सैंपल लेकर प्रशासन द्वारा उनकी निगरानी नहीं करने के मामले में बरती जा रही लापरवाही पर जिला प्रशासन की नींद खुल गई। मंगलवार को दैनिक जागरण की ओर से सैंपल लेकर नजर नहीं रख रहा प्रशासन शीर्षक से रिपोर्ट प्रकाशित होने के बाद डीसी कुलवंत सिंह ने अधिकारियों के साथ तुरंत बैठक बुलाते हुए दिशा-निर्देश जारी किए। इसके मुताबिक अब घरों में क्वारंटाइन किए कोरोना मरीजों की रोजाना रिपोर्ट ली जाएगी।

मास्क न पहनने वाले राह जाते लोगों के पुलिस प्रशासन की मदद से सैंपल लिए जाते थे। कोरोना पाजिटिव पाए जाने के बाद सेहत विभाग द्वारा उस व्यक्ति को ट्रेस करने में दो से तीन दिन लगाए जाते थे। ट्रेस किए मरीज को फतेह किट देकर सेहत विभाग उसे घर में क्वारंटाइन करके जिम्मेदारी पूरी समझ लेता था। यह सारा मामला दैनिक जागरण द्वारा मंगलवार को उठाया गया तो डीसी कुलवंत सिंह ने अधिकारियों की बैठक करते निर्देश जारी किए। डीसी ने आदेश दिया कि कोरोना पाजिटिव पाए गए मरीज को होम क्वारंटाइन करने के बाद सेहत विभाग द्वारा रोजाना उसे चेक किया जाएगा। पाजिटिव पाए गए मरीज के संपर्क में आने वाले लोगों को ट्रेस करना व उनके सैंपल लेना भी सेहत विभाग की जिम्मेदारी रहेगी। फतेह किट लेकर घरों में क्वारंटाइन हुए मरीज अगर खुद को अनफिट महसूस करते हैं तो उन्हें अस्पताल में शिफ्ट किया जाए। बैठक में एडीसी जगविदरजीत सिंह ग्रेवाल, परमजीत कौर, सिविल सर्जन रोहित मेहता, जिला टीकाकरण अधिकारी वरिदरपाल कौर, डीएमसी भारती धवन, एसएमओ स्वर्णजीत धवन, नोडल अधिकारी कंवलजीत सिंह मौजूद थे। गुरु नानक देव सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का भी किया दौरा

डीसी कुलवंत सिंह ने गुरु नानक देव सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का दौरा करते हुए आदेश दिया कि लेवल टू व लेवल थ्री से संबंधित मरीजों को बेहतर सुविधाएं यकीनी बनाई जाएं।कोविड मरीजों के इलाज दौरान राज्य सरकार व सेहत विभाग द्वारा जारी एडवाइजरी का पालन किया जाए। कोरोना मरीज को किसी ओर जगह रेफर करने से पहले उस अस्पताल के मुखी से बातचीत यकीनी की जाए। साथ ही रेफर किए गए मरीज की जानकारी सिविल सर्जन कार्यालय दी जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.