पानी की टंकी पर चढ़े बेरोजगार पीटीआइ अध्यापक, शिक्षामंत्री का जलाया पुतला

पानी की टंकी पर चढ़े बेरोजगार पीटीआइ अध्यापक, शिक्षामंत्री का जलाया पुतला

बेरोजगार पीटीआइ अध्यापकों की नई बेरोजगार पीटीआई अध्यापक यूनियन ने मंगलवार को शिक्षामंत्री विजयइंद्र सिगला के शहर संगरूर में महावीर चौक पर धरना लगाया।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 06:25 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, संगरूर : रोजगार के लिए पिछले लंबे समय से संघर्ष कर रहे बेरोजगार पीटीआइ अध्यापकों की नई बेरोजगार पीटीआई अध्यापक यूनियन ने मंगलवार को शिक्षामंत्री विजयइंद्र सिगला के शहर संगरूर में महावीर चौक पर धरना लगाया। आवाजाही जाम करके शाम चार बजे दस बेरोजगार पीटीआई अध्यापक महावीर चौक के पास मौजूद पानी की टंकी पर पेट्रोल की बोतल लेकर चढ़ गए। इससे पहले चौक पर बेरोजगार पीटीआइ अध्यापकों ने शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार व शिक्षा मंत्री विजयइंद्र सिगला का पुतला जलाया। उन्होंने कहा कि उनकी पोस्टों के प्रति मसले के हल के लिए सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया। शिक्षामंत्री समेत शिक्षा सचिव लगातार उन्हें पैनल बैठकों का भरोसा दिलाकर समय गुजार रहे हैं, लेकिन सरकार के इस रवैये से बेरोजगार पीटीआइ अध्यापक बेहद रोष में हैं। देर शाम को एसडीएम बबनदीप सिंह महावीर चौक में धरने पर बैठे बेरोजगार अध्यापकों को पैनल बैठक का भरोसा दिलाने के लिए पहुंचे। टंकी पर चढ़े दविदर सिंह फाजिल्का, मलकीत सिंह फाजिल्का, मनप्रीत कौर फाजिल्का, संदीप सिंह पटियाला, अमनदीप कौर पटियाला, गुरप्रीत सिंह संगरूर, अवतार सिंह पटियाला, गुरमीत कौर फिरोजपुर, रमनदीप कौर फिरोजपुर व परमजीत कौर पटियाला ने एलान किया कि जब तक पैनल बैठक का लिखित भरोसा नहीं मिलेगा, तब तक टंकी पर डटे रहेंगे।

धरने दौरान नई बेरोजगार पीटीआई अध्यापक यूनियन के प्रांतीय प्रधान जसवीर सिंह गलोटी ने कहा कि आठ अक्टूबर 2020 को उनकी मांगों को लेकर शिक्षामंत्री विजयइंद्र सिगला व शिक्षा सचिव कृष्ण कुमार ने पैनल बैठक की थी। बैठक में उन्हें दो माह के भीतर पोस्टों का हल करने का भरोसा दिलाया गया था, लेकिन वादा पूरा न हुआ। 25 अक्टूबर को बेरोजगार पीटीआइ अध्यापकों ने चंडीगढ़ में पोस्टों के बारे कार्रवाई का पता किया तो किसी ने भी कोई तसल्लीबख्श जवाब नहीं दिया। इसके बाद 18 नवंबर को फिर चंडीगढ़ जाकर पत्र दिया गया, परंतु फिर भी कोई जवाब नहीं मिला। सरकार के इस रवैये से आहत होकर ही मंगलवार को सड़कों पर उतरना पड़ा। उन्होंने प्राइमरी स्कूलों में पीटीआई अध्यापकों को रखने की मांग की। उन्होंने कहा कि या तो रोजगार देयो, नहीं तां गोली मार देयो के नारे लगाए। इस मौके पर डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट पंजाब के राज्य उप प्रधान रघवीर सिंह ने कहा कि डीटीएफ पंजाब पीटीआइ सहित पंजाब के सरकारी स्कूलों व कालेजों में अध्यापकों की खाली पड़ी पोस्टों को भरने के लिए संघर्ष कर रही है, जो आगे भी जारी रहेगा। इस मौके पर यूनियन कार्यकर्ता अमनदीप कंबोज, अमनदीप कौर, कुलवंत सिंह, अवतार सिंह, बलविदर सिंह, दविदर सिंह, मलकीत कौर, गुरविदर सिंह बडरूखां, भूपिदर सिंह आदि उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.