आरक्षित जमीन के पक्के हल के लिए संघर्ष कमेटी करेगी प्रदर्शन : मलौद

आरक्षित जमीन के पक्के हल के लिए संघर्ष कमेटी करेगी प्रदर्शन : मलौद

जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी द्वारा जोनल कमेटी की बैठक जोनल प्रधान मुकेश मलौद व सचिव परमजीत कौर लोंगोवाल के नेतृत्व में हुई।

JagranThu, 04 Mar 2021 05:46 PM (IST)

जागरण संवाददाता, संगरूर

जमीन प्राप्ति संघर्ष कमेटी द्वारा जोनल कमेटी की बैठक जोनल प्रधान मुकेश मलौद व सचिव परमजीत कौर लोंगोवाल के नेतृत्व में हुई। बैठक में अनुसूचित जाति वर्ग के हिस्से की पंचायती जमीन के पक्के हल के लिए 26 मार्च को संगरूर में रोष प्रदर्शन करने का फैसला किया गया। जोनल प्रधान मुकेश मलौद ने कहा कि दलितों को अपने हिस्से की जमीन लेने हेतु लगातार संघर्ष करना पड़ रहा है। नजूल जमीनों के मलकियत हक का नोटिफिकेशन जारी होने के बाद भी उनको मलकीयत हक से वंचित रखा जा रहा है। वहीं माइक्रो फाइनांस कंपनियों के कर्ज की मार झेल रही महिलाओं को आए दिन जलील होना पड़ रहा है। कर्ज उतारने के लिए घर का सामान बेचना पड़ रहा है। उन्होंने पंचायती जमीन का तीसरा हिस्सा 33 वर्ष ठेके पर देने, बाकी जमीन छोटे किसानों के लिए रखने, नजूल सोसायटियों की जमीनों के मालिकाना हक वाले नोटिफिकेशन को जारी करने, सीलिग एक्ट लागू कर बाकी बचती जमीन भूमिहीन छोटे किसानों में बांटने, अनुसूचित जाति नेताओं पर किए झूठे पर्चे रद करने, मनरेगा के तहत काम की गारंटी देने, काम के पैसे तुरंत अदा करने, कंपनियों के कर्ज माफ कर महिलाओं को बगैर शर्त सहकारी सोसायटी के सदस्य बनाकर सरकारी कर्ज मुहैया करवाने, जरूरतमंद परिवारों को पांच-पांच मरले प्लाट देने, बिजली बिल व खेती कानून रद करने की मांग की।

इस मौके पर जोनल नेता बिक्कर सिंह हथोआ व गुरविदर सिंह ने कहा कि उक्त मांगों को लेकर 26 मार्च को रोष प्रदर्शन किया जाएगा जिसमें संगरूर, पटियाला, बरनाला व मानसा के अनुसूचित जाति वर्ग के लोग बड़ी संख्या में शिरकत करेंगे। इस मौके पर गुरचरन सिंह, चरन सिंह, बलवीर सिंह, जगरूप सिंह, गुरदास सिंह, जगतार सिंह आदि उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.