कच्चे मुलाजिमों को पक्का व पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग

कच्चे मुलाजिमों को पक्का व पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग
Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 10:22 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, संगरूर : दी क्लास फोर गवर्नमेंट इंप्लाइज यूनियन पंजाब के महासचिव रणजीत सिंह, उपप्रधान मेला सिंह पुन्नवाल, जिला महासचिव रमेश कुमार की अगुआई में संगठ की बैठक हुई। बैठक में उन्होंने कहा कि मुलाजिमों की प्रमुख मांगे कच्चे, ठेका व आउटसोर्स, सफाई सेवक, सिक्योरिटी गार्ड व पार्ट टाइम मुलाजिम पक्के करने, पुरानी पैंशन स्कीम बहाल करने, सरकारी विभागों का निजीकरण बंद करने, सेहत, शिक्षा, बिजली, ट्रांसपोर्ट संस्थाओं का संसारीकरण, छठे पे कमिशन की रिपोर्ट को लागू करने के लिए लगातार संघर्ष कर रहे है। कितु सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है। सरकार ने र्नइ भर्ती केंद्रीय पेट्रन ढांचे से करने, मोबाइल भत्ता काटने, 8657 जल स्त्रोत विभाग, 2259 खेतीबाड़ी विभाग 40 हजार पोस्टें बिजली बोर्ड सहित विभिन्न विभागों में हजारों पोस्टें खत्म करने के मुलाजिम विरोधी फैसला कर मुलाजिम मांगों को बढ़ा दिया है।

उन्होंने विधायकों, मंत्रियों को मिलती एक से अधिक पैंशन बंद करने, गैर जरूरी भत्तों में कटौती करने, राज्य सरकारों को आर्थिक अधिकार देने, जीएसटी से हुए नुकसान की भरर्पाइ करने, कारपोरेट घरानों पर चार फीसदी टैक्स लगाने की मांग की। अंत में उन्होंने केंद्र सरकार के आर्डिनेस खिलाफ किसान अंदोलन की पूरी हिमायत करते हुए तीनों आर्डिनेस वापस लेने की मांग की। इस मौके रणजीत सिंह ने बताया कि मुलाजिम व पैंशनरों की ओर से सांझ फ्रंट बनाकर 30 सितंबर तक भूख हड़ताल व 19 अक्टूबर को जेल भरो अंदोलन में शमूलियत करने का ऐलान किया। इस मौके पर यूनियन के ज्वाइंट सचिव हंसराज, गुरमीत सिंह व जिला फैडरेशन के प्रधान सीता राम, मुलाजिम नेता मोहम्मद खली, पैंशनर नेता बिक्कर सिंह सीबिया, प्रेस सचिव अमरीक सिंह आदि उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.