पांच वर्षों में 26 हजार से अधिक कैंसर मरीजों का संगरूर में हुआ इलाज

कैंसर की नामुराद बीमारी लगातार पैर पसार रही है।

JagranSat, 21 Aug 2021 05:44 PM (IST)
पांच वर्षों में 26 हजार से अधिक कैंसर मरीजों का संगरूर में हुआ इलाज

जागरण संवाददाता, संगरूर

कैंसर की नामुराद बीमारी लगातार पैर पसार रही है। लोगों के लिए कैंसर का इलाज करवाना बेहद मुश्किल होता रहा है। संगरूर या मालवा इलाके के ही नहीं, बल्कि पंजाब भर के कैंसर मरीजों को इलाज के लिए बीकानेर की तरफ रुख करना पड़ता था, लेकिन संगरूर के सिविल अस्पताल के साथ स्थापित हुए टाटा मेमोरियल के होमी भाबा कैंसर अस्पताल को लगातार अपग्रेड किया जा रहा है। शनिवार को स्कूल शिक्षा व लोक निर्माण मंत्री विजयइंद्र सिगला द्वारा होमी भाबा कैंसर अस्पताल संगरूर में करोड़ों रुपये की लागत वाले प्रोजेक्टों को लोकार्पण किया गया। लोक भलाई वाले विभिन्न प्रोजेक्टों के नींव पत्थर भी रखे। उन्होंने 12 करोड़ रुपये से तैयार अति आधुनिक लैस रेडियोलॉजी ब्लॉक व छह करोड़ 55 लाख रुपये से तैयार लड़कियों के होस्टल का उद्घाटन किया। पिछले पांच वर्षों में 26 हजार से अधिक कैंसर मरीजों का संगरूर में सफल इलाज हो चुका है।

स्थानीय रणबीर क्लब नजदीक तीन करोड़ 92 लाख की लागत से बनने वाली डाक्टरों की रिहायश व तीन करोड़ 90 लाख की लागत से कैंसर अस्पताल में रिहायशी क्षेत्र के विकास के लिए ब्लॉक के नींव पत्थर रखे। सिगला ने बताया कि यह अस्पताल संगरूर ही नहीं, बल्कि पंजाब के दूसरे राज्यों के कैंसर पीड़ितों के लिए वरदान साबित हो रहा है। हाल ही में मिली रिपोर्ट मुताबिक पहले कैंसर के मरीज रेल के जरिए बीकानेर जाते थे, लेकिन अब संगरूर के कैंसर अस्पताल पहुंच रहे हैं। मुख्यमंत्री पंजाब की रहनुमाई में संगरूर हलके को कैंसर मुक्त करने की मुहिम को मजबूत किया जाएगा। ---------------------

सीएम द्वारा पैट-सी टी मशीन के लिए 15 करोड़ मंजूर

सिगला ने कहा कि मुख्यमंत्री पंजाब ने पैट-सी टी मशीन के लिए 15 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं। जल्द उक्त मशीन मरीजों के इलाज हेतु कैंसर अस्पताल में स्थापित की जाएगी। होमी भाबा कैंसर अस्पताल में इलाज करवाने वाले 90 फीसद मरीजों का इलाज फ्री होता है। अस्पताल में कीमोथेरेपी दवाएं, साधारण दवा व सर्जिकल के मूल्य पर 70 फीसद छूट दी जाती है। इसके अलावा टाटा अस्पताल में मुख्यमंत्री कैंसर राहत कोष योजना के तहत डेढ़ लाख रुपये तक का नकदी रहित इलाज होता है।

इस मौके डीसी संगरूर रामवीर, डायरेक्टर होमी भाबा कैंसर अस्पताल व रिसर्च सेंटर डा. राकेश कपूर, चीफ इंजीनियर पीडब्लयुडी एनआर गोयल, एचडीएफसी बैंक के उत्तरीय टू के ब्रांच बैकिग प्रमुख विनीत अरोड़ा, डा. नितिन मराठे, डा. सुआश कुलकर्णी, डा. राहतदीप सिंह बराड़, डा. संकल्प संचेती और डा. श्वेता तालन के अलावा अस्पताल का समूह स्टाफ मौजूद था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.