रजबाहा टूटने से पंद्रह एकड़ गेहूं की फसल खराब हुई

गांव लहल कलां में कोटड़ा रजबाहे में दरार पड़ने से आसपास की फसल डूबी।

JagranPublish:Wed, 08 Dec 2021 04:40 PM (IST) Updated:Wed, 08 Dec 2021 04:40 PM (IST)
रजबाहा टूटने से पंद्रह एकड़ गेहूं की फसल खराब हुई
रजबाहा टूटने से पंद्रह एकड़ गेहूं की फसल खराब हुई

संवाद सूत्र, लहरागागा (संगरूर):

गांव लहल कलां में कोटड़ा रजबाहे में दरार पड़ने से आसपास की करीब पंद्रह एकड़ गेहूं की फसल डूबने से खराब हो गई। किसान राज सिंह ने बताया कि रात के समय अचानक रजबाहे में करीब दस फीट लंबी दरार पड़ने से किसान जरनैल सिंह की आठ एकड़, किसान बलदेव सिंह की पांच एकड़ और गुरदेव सिंह की तीन एकड़ गेहूं की फसल डूब गई। किसानों ने कहा कि वह गेहूं को दो दिन बाद पहला पानी लगाने वाले थे, लेकिन जल भराव होने से फसल खराब हो चुकी है। अब खेत को दोबारा जोतकर गेहूं की बुवाई करनी होगी, जिसमें करीब दस-पंद्रह दिनों का समय लग जाएगा। इससे फसल की पैदावार पर बुरा असर पड़ेगा।

इस मौके पहुंचे नहरी विभाग के जेई अमनदीप सिंह ने कहा कि यूं तो रजवाहे का कहीं कोई कमजोर हिस्सा नहीं है, लेकिन ठंड बढ़ने के कारण किसानों के खेतों से चूहे व अन्य जीव रजवाहे के किनारों में अपने बिल बना लेते हैं। उनकी खुदाई के कारण रजवाहे में दरारें पड़ जाती हैं। उन्होंने किसानों को आश्वासन दिलाया कि वह जल्द लेबर के जरिए बांध को और मजबूत करवाएंगे, ताकि किसानों को गेंहू के सीजन दौरान सिचाई करते समय कोई परेशानी न हो।