अपनी आयु पूरी कर चुकी स्टार्म वाटर चैनल धंस रही, प्रशासन एपीके रोड पर सुंदरीकरण कराने की सोच रहा; दुकानदारों ने कहा- बिना प्लानिंग के खर्च किए जा रहे हैं सवा तीन करोड़

पिछले वर्ष नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन विभूति शर्मा ने उक्त स्टार्म वाटर लाइन को सीवरेज में तबदील करने के लिए निकाय विभाग को पत्र भेजा था। उन्होंने कहा था कि इससे जहा शहर के एक तिहाई एरिया की सीवरेज लाइन को डाल कर समस्या का समाधान किया जा सकता है वहीं बाकी एरिया में ब्लाकेज के कारण पेश आ रही समस्या का भी स्थायी समाधान हो जाएगा लेकिन निकाय विभाग ने उक्त प्लान को ठंडे बस्ते में डाल कर उक्त मार्ग को हाईटेक बनाने के लिए सवा तीन करोड़ की राशि जारी कर दी।

JagranPublish:Fri, 30 Jul 2021 05:00 AM (IST) Updated:Fri, 30 Jul 2021 05:00 AM (IST)
अपनी आयु पूरी कर चुकी स्टार्म वाटर चैनल धंस रही, प्रशासन एपीके रोड पर सुंदरीकरण  कराने की सोच रहा; दुकानदारों ने कहा- बिना प्लानिंग के खर्च किए जा रहे हैं सवा तीन करोड़
अपनी आयु पूरी कर चुकी स्टार्म वाटर चैनल धंस रही, प्रशासन एपीके रोड पर सुंदरीकरण कराने की सोच रहा; दुकानदारों ने कहा- बिना प्लानिंग के खर्च किए जा रहे हैं सवा तीन करोड़

जागरण संवाददाता, पठानकोट: एपीके रोड की स्टार्म वाटर चैनल (बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाई गई लाइन) के धंसने के कारण दुकानदारों के चेहरों पर चिंता की लकीरें दिखना शुरू हो गई हैं। वहीं दूसरी तरफ प्रशासन एपीके रोड के सुंदरीकरण पर सवा तीन करोड़ रुपये खर्च करने जा रहा है। इस बारे में दुकानदारों का कहना है कि प्रशासन बिना प्लानिंग किए ही पैसे खर्च कर रहा है। उक्त स्टार्म वाटर चैनल लाइन अपनी आयु पूरी कर चुकी है जो अब धीरे-धीरे धंस रही है। ऐसे में इसका समाधान किए बिना उक्त रोड को कितना भी हाईटेक कर लो कोई फायदा नहीं होने वाला।

हालाकि, पिछले वर्ष नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन विभूति शर्मा ने उक्त स्टार्म वाटर लाइन को सीवरेज में तबदील करने के लिए निकाय विभाग को पत्र भेजा था। उन्होंने कहा था कि इससे जहा शहर के एक तिहाई एरिया की सीवरेज लाइन को डाल कर समस्या का समाधान किया जा सकता है, वहीं बाकी एरिया में ब्लाकेज के कारण पेश आ रही समस्या का भी स्थायी समाधान हो जाएगा, लेकिन निकाय विभाग ने उक्त प्लान को ठंडे बस्ते में डाल कर उक्त मार्ग को हाईटेक बनाने के लिए सवा तीन करोड़ की राशि जारी कर दी। दुकानदार बोले, सड़क पर जगह-जगह सुराख, कभी भी हो सकती है अनहोनी

रेलवे रोड पर कारोबार कने वाले दुकानदार अरुण कुमार, शक्ति कुमार, वीरेंद्र कुमार, पवन कुमार, अभी महाजन व राजिद्र दत्ता ने बताया कि सिटी स्टेशन के आउटर गेट को जाने वाले रास्ते पर सड़क के बीचो-बीच सुराख होने शुरू हो गए हैं। सड़क पर करीब 20 ऐसे सुराख हैं, जिनके ऊपर से जब कोई वाहन गुजरता है तो साथ से गुजर रही स्टार्म वाटर चैनल लाइन हिलने लगती है। इसके कुछ दूरी पर ही पिछले दिनों लाइन खराब हुई थी जिसे दुकानदारों ने अपने स्तर पर ही ठीक करवाया था। दुकानदारों ने बताया कि स्टार्म वाटर चैनल लाइन अपनी आयु पुरी कर चुकी है और यह कभी भी बैठ सकती है। ऐसे में हर वक्त घटना होने का खतरा बना हुआ है। सात जगहों पर पहले ही बैठ चुकी स्टार्म वाटर चैनल लाइन

पिछले तीन वर्षों के दौरान एपीके रोड की पुरानी स्टार्म वाटर चैनल लाइन सात जगहों पर बैठ चुकी है, जिसमें होटल यू नाइट, बिमको पेट्रोल पंप के पास, इंदिरा कालोनी मोड़, सीएसडी कैंटीन के पास, रेलवे स्टेशन के गेट को जाने वाले रास्ते, ठंडी खुई मंदिर, होटल ग्रीन के सामने तथा नेता जी मार्केट के पास सीवरेज लाइन डैमेज हो चुकी है। इंदिरा कालोनी मोड़ पर तो एकदम से सीवरेज बैठ गई थी। गनीमत रही कि कोई बड़ी घटना नहीं हुई। स्टार्म वाटर चैनल का हल किए बिना काम करवाना पैसों की बर्बादी : पूर्व मेयर

विगत दिनों पठानकोट नगर निगम के मेयर अनिल वासुदेवा ने भी एपीके रोड पर स्टार्म वाटर चैनल का हल किए बिना सुंदरकीण का काम शुरू किए जाने पर सवाल खड़े किए थे। कहा कि उक्त स्टार्म वाटर चैनल को सीवरेज लाइन में तबदील करने के लिए नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन जो उन्हीं की पार्टी के हैं ने भी निकाय विभाग को एक प्रपोजल भेजी थी, जिसमें अपनी आयु पूरी कर चुके स्टार्म वाटर चैनल को सीवरेज लाइन में तबदील करने के लिए कहा गया था। प्रोजेक्ट में बताया गया था कि एपीके रोड का सुंदरीकरण तब ही किया जब इसका दोबारा निर्माण करवाया जाए। बिना स्टार्म वाटर चैनल का हल किए सवा तीन करोड़ से करवाए जा रहे कार्यों का कोई फायदा नहीं है। पैसे आते ही लाइन की रिपेयर कराई जाएगी: एसडीओ

इस संदर्भ में जब पीडब्लयूडी बीएंडआर के एसडीओ सरदार परमिद्र सिंह से बात की तो उनका कहना था कि उक्त लाइन को ठीक करने के लिए सीवरेज बोर्ड को बीटी (बुक ट्रांजेक्शन) बिल भेजा हुआ है। जैसे ही पैसे आएंगे उक्त लाइन जहां-जहां से डैमेज है उसकी रिपेयरिग करवाई जाएगी।