मंत्रजाप का प्रभाव होता है गहरा व सूक्ष्म : साध्वी तरुणा

मंत्रजाप का प्रभाव होता है गहरा व सूक्ष्म : साध्वी तरुणा

सतयुग त्रेता व द्वापर में जो गति पूजा यज्ञ और योग से प्राप्त होती थी वह कलयुग में केवल भगवान के नाम से प्राप्त हो सकती है।

Publish Date:Sun, 24 Jan 2021 10:24 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, घरोटा : सतयुग, त्रेता व द्वापर में जो गति पूजा, यज्ञ और योग से प्राप्त होती थी, वह कलयुग में केवल भगवान के नाम से प्राप्त हो सकती है। यह शब्द साध्वी तरुणा बहन ने तलवंडी स्थित बापू आश्रम परिसर में श्री योग वेदांत सेवा समिति के तत्वावधान में आयोजित प्रथम दिवस सत्संग को संबोधित करते हुए कहीं। इस सत्संग में विभिन्न स्थानों से काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। साध्वी तरुणा ने ध्यान, योग, मंत्रजाप, स्थान, दिशा आहार, श्रद्धा, विवेक, भक्ति, अनुष्ठान इत्यादि सूक्ष्म विषयों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि यंत्र शक्ति का प्रभाव केवल लौकिक व्यवहार जगत में व सीमित देश काल में पड़ सकता है, जबकि मंत्र शक्ति का प्रभाव अन्य लोगों तक जा सकता है। मंत्रजाप की महिमा का गुणगान करते हुए कहा कि तीन बातें जितनी अधिक होगी उतनी ही सफलता पाई जा सकती है। इसलिए साधक को श्रद्धा, एकाग्रता और संयम की ओर विशेष ध्यान केंद्रित करना चाहिए। उन्होंने भारतीय सभ्यता, संस्कृति व संतों पर हो रहे कुठारघात के प्रति सावधान करते संगठित होने के लिए प्रेरित किया।

श्री राधा-कृष्ण मंदिर के नवीनीकरण के लिए किया भूमि पूजन

संवाद सहयोगी, घरोटा : गांव चौहान में रविवार को श्री राधा-कृष्ण मंदिर के नवीनीकरण के लिए हवन और भूमि पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें समूह गांव निवासियों ने श्रद्धा के साथ भाग लिया। पंडित नवीन शास्त्री ने वैदिक मंत्रों उच्चारण के साथ भूमि पूजन किया। कमांडेंट अशोक कुमार शर्मा ने कहा कि पूरे गांव के तत्वावधान से 65 वर्ष पूर्व निर्मित इस मंदिर की कार्याकल्प की जा रही है। इसमें भगवान श्री राधा-कृष्ण, श्री राम दरबार, भगवान शिव परिवार, दुर्गा माता इत्यादि मंदिरों व विशाल सत्संग घर को निर्मित किया जाएगा। इस दैवी कार्य के सफलता पूर्वक आयोजन के लिए गांव का डोर टू डोर सहयोग लिया जाएगा। इस मौके जोगिद्र सिंह, रतन सिंह, बलवीर सिंह, कश्मीर सिंह, थुड़ सिंह, सरदार सिंह, बलदेव सिंह, बलकार सिंह, अश्विनी कुमार, राजेश मिटू, सुरेश, अंग्रेज सिंह, तरसेम सिंह, लखन सिंह, बग्गा सिंह, मदन सिंह आदि उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.