दो साल बाद एमसीएच वार्ड शुरू, लेबर रूम के सभी मरीजों को किया शिफ्ट

अस्पताल में एमसीएच बिल्डिग को तैयार होने में एक वर्ष से ज्यादा का समय लग गया था और पिछले वर्ष ही हेल्थ मंत्री की ओर से अस्पताल पहुंच विधायक विज के साथ इस बिल्डिग का उद्घायन किया गया था लेकिन कोविड के बढ़ते प्रकोप के चलते अस्पताल प्रबंधन इसे शुरू नहीं कर पाया और इस पूरी बिल्डिग को आइसोलेशन वार्ड में तबदील कर दिया गया। उक्त बिल्डिग में फिर कोविड मरीज ही उपचार के लिए रखे जाने लगे।

JagranTue, 27 Jul 2021 04:18 AM (IST)
दो साल बाद एमसीएच वार्ड शुरू, लेबर रूम के सभी मरीजों को किया शिफ्ट

सूरज प्रकाश, पठानकोट: आखिर वह घड़ी भी आ गई जब सिविल में बने मदर एंड चाइल्ड केयर हेल्थ सेंटर (एससीएच वार्ड) को सिविल अस्पताल प्रबंधन की ओर से शुरू कर दिया गया है। आधुनिक सुविधा से लैस इस वार्ड में माता और बच्चे को कई प्रकार की सुविधाएं मिलेंगी। अस्पताल में एमसीएच बिल्डिग को तैयार होने में एक वर्ष से ज्यादा का समय लग गया था और पिछले वर्ष ही हेल्थ मंत्री की ओर से अस्पताल पहुंच विधायक विज के साथ इस बिल्डिग का उद्घाटन किया गया था, लेकिन कोविड के बढ़ते प्रकोप के चलते अस्पताल प्रबंधन इसे शुरू नहीं कर पाया और इस पूरी बिल्डिग को आइसोलेशन वार्ड में तबदील कर दिया गया। उक्त बिल्डिग में फिर कोविड मरीज ही उपचार के लिए रखे जाने लगे। उसके अलावा कोई ओर मरीज को यहां शिफ्ट नहीं किया जा रहा था। अब इस बिल्डिग को अस्पताल प्रबंधन की ओर से मदर एंड चाइलड के लिए कुछ बेड के साथ ही शुरू किया गया है।

एसएमओ डा. राकेश सरपाल ने कहा कि एमसीएच वार्ड में अभी ग्राउंड फलोर में 15 बेड के साथ मदर एंड चाइल्ड के लिए सुविधा शुरू की गई है। लेबर रूम में जितनी भी गर्भवती महिलाएं व नवजात शिशू थे उन सभी को इस बिल्डिग में शिफ्ट कर दिया गया है और लेबर रूम को ताला जड़ दिया गया है। धीरे-धीरे इस वार्ड में मदर एंड चाइल्ड के लिए बेड की संख्या बढ़ाई जाएगी। एक डाक्टर व दस स्टाफ मेंबर ड्यूटी पर रहेंगी तैनात

एमसीएच वार्ड में एक महिला रोग विशेषज्ञ डाक्टर व दस स्टाफ मेंबर मौजूद रहेंगी। इसके अलावा सफाई कर्मी वार्ड से अलग लगाए गए हैं ताकि नवजात शीशुओं व उनकी माताओं को किसी भी तरह की इंफेक्शन न हो सके। लेबर रूम में लैब का कुछ हिस्सा किया जाएगा शिफ्ट

सिविल की जनरल लैब में सामान ज्यादा और जगह कम पड़ रही है। इसलिए अस्पताल के अधिकारियों का कहना है कि अभी वह जनरल लैब का कुछ हिस्सा लेबर रूम में शिफ्ट करने के बारे में सोच सकते हैं। बाकी कुछ ओर जरूरत के अनुसार इस्तेमाल करना होगा तो वह भी अस्पताल प्रबंधन कर सकता है। तीसरी मंजिल पर रहेगा आइसोलेशन वार्ड

एमसीएच बिल्डिग में ग्राउंड फलोर पर मदर एंड चाइल्ड व्यावस्था शुरू कर दी गई है, लेकिन कोविड की तीसरी लहर कभी भी दस्तक दे सकती है और इसे देखते हुए अस्पताल प्रबंधन ने अभी तीसरी मंजिल को कोविड वार्ड ही रखा है। अगर कोविड की तीसरी लहर दौरान पाजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती है तो अस्पताल प्रबंधन मेल वार्ड व फीमेल वार्ड को खाली करवा उसे भी आइसोलेशन वार्ड में तबदील कर सकता है ताकि जरूरत पड़ने पर मरीजों के लिए बेड की कमी न आए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.