खटकड़ कलां में नारों के बीच शुरू किया ट्रैक्टर मार्च

खटकड़ कलां में नारों के बीच शुरू किया ट्रैक्टर मार्च

बंगा किरती किसान यूनियन की तरफ से ट्रैक्टर मार्च शुक्रवार को गांव खटकड़ कलां से शहीद भगत सिंह की प्रतिमा से इंकलाबी नारों के साथ शुरू किया गया। इसमें 200 से ज्यादा ट्रैक्टरों का काफिला शामिल था।

Publish Date:Fri, 15 Jan 2021 11:26 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, बंगा

किरती किसान यूनियन की तरफ से ट्रैक्टर मार्च शुक्रवार को गांव खटकड़ कलां से शहीद भगत सिंह की प्रतिमा से इंकलाबी नारों के साथ शुरू किया गया। इसमें 200 से ज्यादा ट्रैक्टरों का काफिला शामिल था।

इस अवसर पर यूनियन के जिला सचिव तरसेम सिंह बैंस व कुलविदर सिंह वड़ैच ने कहा कि यह ट्रैक्टर मार्च 26 जनवरी की दिल्ली में हो रही ट्रैक्टर परेड का अभ्यास है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के तीन खेती सुधार कानून देश की किसानी को बर्बाद करने वाले हैं और किसानों की जमीनें छीन कर कारपोरेट सेक्टर को देने वाले हैं। किसान यह कानून हर हालत में रद करवा कर ही दिल्ली से घर लौटेंगे।

यह ट्रैक्टर मार्च खटकड़ कलां से होते हुए बंगा, मल्लूपोता, लंगेरी, चक्क बिलगा, सरहाल काजी, खानपुर, खानखाना, गुणाचौर, मजारा नौआबाद, करनाना, रसूलपुर, मूसापुर, मलपुर अड़कां, बैंस, भूतों से होता हुआ गांव काहमा में समाप्त हुआ। इस काफिले के अलग-अलग पड़ाव में बूटा सिंह महमूदपुर, अवतार सिंह कट्ट, कश्मीर सिंह मलपुर अड़कां, जरनैल सिंह काहमा, तलविंदर सिंह जब्बोवाल आदि नेताओं ने भी संबोधन किया।

-------------

गांव उसमानपुर में कृषि सुधार कानूनों के बारे में किया रोष प्रदर्शन

जागरण संवाददाता, नवांशहर

दो महीने से लगातार किसान भाई कड़ाके की ठंड में दिल्ली बार्डर की सड़कों पर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। इस संघर्ष के समर्थन में गांव उसमानपुर में शिरोमणि अकाली दल मान अमृतसर के वरिष्ठ नेता जत्थेदार हरमिदर सिंह उसमानपुर के नेतृत्व में गांव में रोष प्रदर्शन किया गया। इस दौरान केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की गई। इस अवसर पर केंद्र सरकार का पुतला व कृषि सुधार कानूनों की कापियां भी फूंकी गई।

इस अवसर पर जत्थेदार हरमिदर सिंह ने किसानों से अपील की है कि वे इस संघर्ष में बढ़-चढ़कर योगदान दें, ताकि किसान विरोधी कानून रद करवाया जा सके। इस मौके पर संत बाबा ठाकुर दास डेरा बाबा श्रीचंद वालों ने भी किसान संघर्ष का समर्थन किया।

इस मौके पर कुलविदर सिंह उसमानपुर, अमृतपाल सिंह, मनजीत सिंह, प्रेम सिंह, बहादुर सिंह, गुरचरन कौर, गुरबख्श झलर, दर्शन झलर, बलवीर झलर, कमलजीत झलर, रविदर झलर, हरदीप झलर सहित ग्रामीण उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.