किसानों को अपशब्द कहना केंद्र की कमजोरी: राणा कर्ण सिंह

संवाद सहयोगी काठगढ़ किसान आंदोलन ने केंद्र की भाजपा सरकार को घुटनों के बल पर ला दिय

JagranSat, 24 Jul 2021 10:22 PM (IST)
किसानों को अपशब्द कहना केंद्र की कमजोरी: राणा कर्ण सिंह

संवाद सहयोगी, काठगढ़:

किसान आंदोलन ने केंद्र की भाजपा सरकार को घुटनों के बल पर ला दिया है। उसे इससे बाहर निकलने का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। जिसके कारण बौखलाहट में उनके मंत्रियों की तरफ से किसान आंदोलन को लेकर गलत बयानबाजी की जा रही है। उक्त बातें संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा भाजपा नेत्री मीनाक्षी लेखी का शनिवार को टोल प्लाजा पर पूतला फूंक कर रोष प्रदर्शन करने के दौरान राणा कर्ण सिंह द्वारा कही गई। उन्होंने कहा कि किसान मोर्चा आंदोलन के संबंध में किसानों को अपशब्द बोलने के लिए भाजपा नेत्री की जोरदार निंदा करती है। किसान संघर्ष 286वें दिन में पहुंच गया है। जिसे लेकर किसानों में किसी तरह की घबराहट महसूस नहीं की जा रही है। तथा समय के साथ संघर्ष को और तेज किया जा रहा है। उन्होंने मीनाक्षी लेखी के खिलाफ रोष रैली करते समय जमकर नारेबाजी की। मौके पर मौजूद किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की खामोशी को हर कीमत पर तोड़ा जाएगा। इस अवसर पर सतनाम जलालपुर, करनैल सिंह, अवतार सिंह तारी, स्वर्ण सिंह, देसराज, रघवीर सिंह, मदन मीलू, हंसराज मीलू, मेला राम, गुरदयाल सिंह, मोहन सिंह, सोहन सिंह, सतपाल, राम पाल आदि उपस्थित थे।

बलाचौर पहुंचे मनीष तिवारी को किसानों ने दिखाए काले झंडे संवाद सहयोगी, बलाचौर:लोकसभा क्षेत्र श्री आनंदपुर साहिब से सांसद मनीष तिवारी के बलाचौर पहुंचने पर उनके विरोध में शनिवार को बड़ी संख्या में किसानों ने नगर कौंसिल कार्यालय में प्रदर्शन किया और काले झंडे दिखाए। किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए डीएसपी बलाचौर त्रलोचन सिंह और सिटी बलाचौर थाना प्रमुख गुरमीत सिंह के नेतृत्व में तहसील परिसर सहित शहर में विभिन्न स्थानों पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। विभिन्न किसान संगठनों के प्रवक्ताओं ने अपने संबोधन में कहा कि जब किसानों ने किसान विरोधी विधेयक के पारित होने का विरोध करना शुरू किया, तो कांग्रेस विधायकों सहित सांसदों विशेष कर सांसद मनीष तिवारी ने आश्वासन दिया था कि वे किसानों के पक्ष में है। लेकिन इसके बावजूद केंद्र सरकार ने बिल पास कर दिया है। उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस विधायक और सांसद किसानों के सवालों का जवाब देने से भी दूर भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसान संगठन उन राजनीतिक दलों को घेरते रहेंगे जिन्होंने इस मुद्दे पर किसानों का साथ नहीं दिया। इस अवसर पर भारतीय किसान संघ (राजेवाल) के अध्यक्ष निर्मल सिंह औजला, उपाध्यक्ष हरविदर सिंह चहल, सुखविदर सिंह बस्सी समेत कई किसान नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.