फसली चक्र को अपनाकर आत्मनिर्भर बनें किसान

फसली चक्र को अपनाकर आत्मनिर्भर बनें किसान

पंजाब कृषि संकट को केवल पंजाब को गेहूं-धान के चक्र से निकालकर हल किया जा सकता है। इसके लिए एक वैकल्पिक कृषि नीति की आवश्यकता है लेकिन अब तक सभी सत्ताधारी दलों ने कारपोरेट सहित पंजाब के हितों से समझौता ही किया है।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 03:10 PM (IST) Author: Jagran

जेएनएन, नवांशहर: पंजाब कृषि संकट को केवल पंजाब को गेहूं-धान के चक्र से निकालकर हल किया जा सकता है। इसके लिए एक वैकल्पिक कृषि नीति की आवश्यकता है, लेकिन अब तक सभी सत्ताधारी दलों ने कारपोरेट सहित पंजाब के हितों से समझौता ही किया है। किसी ने अपने दम पर कोशिश नहीं की। वैकल्पिक माडल की मांग को बढ़ाने में बुरी तरह विफल रहे हैं। पंजाब में वर्तमान में 22 जिले हैं और इनमें 40 लाख हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि है, लेकिन त्रासदी को देखें, तो पंजाब की मिट्टी आठ प्रकार की है। हम केवल केंद्र से लगभग 30 लाख हेक्टेयर पर गेहूं और धान की खेती कर रहे हैं और उसी खेती के माडल को जारी रखने के लिए लंबी लड़ाई लड़ रहे हैं।

पंजाब सरकार को पंजाब में पाए जाने वाले 8 मिट्टी के प्रकारों के अनुसार पंजाब को 8 कृषि क्षेत्रों (कृषि आधारित परिसीमन के रूप में जाना जाता है) में बदलना है। जब पंजाब में बीस प्रकार की फसलों के लिए क्षेत्रों का निर्धारण होगा, तो उत्पादन के बारे में अग्रिम जानकारी होगी, जिसके लिए सरकार अपनी सहायक कंपनियों के साथ बिक्री की व्यवस्था कर सकती है और एक बिचौलिए के रूप में अपनी आय भी अर्जित कर सकती है। कृषि माहिरों का कहना है कि किसान पंजाब की तीन करोड़ आबादी को भी आत्मनिर्भर बना देंगे। इसका मतलब यह है कि अगर प्रत्येक आवश्यक उर्वरक का उत्पादन किया जाता है और पंजाब में ही बिक्री के लिए बाजार में आता है, तो इस तरह से केवल पंजाब में ही आधी फसलों की खपत होगी, जिसके लिए सरकार फसलों की कीमतों को पहले से तय कर सकती है, ताकि भंडारण के लिए उचित व्यवस्था करने के अलावा किसानों और इसके बेचने के लिए कोई डर न हो। रोजगार के अवसरों और सार्वजनिक-निजी भागीदारी के अलावा, सहकारी और साथ ही कारपोरेट क्षेत्र का परीक्षण किया जा सकता है। इसलिए इमानदारी से पुनर्विचार की आवश्यकता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.