गर्मी से बचने के लिए नींबू-पानी का करें प्रयोग

गर्मी से बचने के लिए नींबू-पानी का करें प्रयोग
Publish Date:Mon, 25 May 2020 05:25 PM (IST) Author: Jagran

वेद प्रकाश, श्री मुक्तसर साहिब

कोरोना वायरस के बाद अब गर्मी का लॉकडाऊन शुरु हो गया है। गर्मी के कारण लोग अब घरों से कम ही निकलते हैं। लोगों को राहत की बात यह है कि स्कूलों में वायरस के कारण पहले ही छुट्टियां चल रही है। जिस कारण बच्चे घरों में ही हैं। दोपहर 12 बजे के बाद लोग कम ही बाजार निकलते हैं। गर्मी के बढ़ रहे प्रकोप को देखते सिविल सर्जन डॉ. हरि नारायण ने लोगों को गर्मी व लू से बचने के लिए जरुरी सावधानियां रखने व जरुरी उपाय करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि इन दिनों में तापमान 42 डिग्री सेल्सियस के नजदीक चल रहा है और इसके बढ़ने की संभावना है। सिविल सर्जन ने कहा कि अगले दो तीन माह दौरान मौसम आम तौर पर काफी गर्म होता है, इसलिए गर्मी का बचाव जरुरी है।

उन्होंने बताया कि तीखी गर्मी के दिनों में बच्चों व बुजुर्गो की अधिक संभाल की जरूरत होती है। गर्मी के कारण चक्कर आने, बहुत पसीना आना व थकान होना, सिर दर्द व उल्टियां लगनी कमजोरी आदि इसके लक्षण हो सकते हैं। उन्होंने लोगों से अपील की कि पानी व अन्य तरल पदार्थों जैसे कि लस्सी, नींबू पानी, फ्रेश जूस आदि का अधिक से अधिक सेवन करें। शरीर को ठंडा रखो व अधिक पानी पीओ, हलके रंग के कपड़े पहनें, बाहर जाने पर चश्मा लगाओ व टोपी पहनो, यदि बाहर हो तो बैठने के लिए ठंडी छांव वृक्ष या अन्य छायादार जगह चुनें। इनसेट

दुकानों का समय तब्दील करने की मांग की

कोरोना वायरस को लेकर दुकानदारों का समय सुबह सात बजे से लेकर शाम छह बजे तक निर्धारित किया गया है। जिससे की दुकानदारों ने समय में तब्दीली करने के लिए प्रशासन को अपील की है। दुकानदारों ने कहा कि दुकानों का समय सुबह नौ से शाम आठ बजे तक किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोग सुबह जल्दी नहीं उठते हैं तथा जब उठते है तो बाजार आने का समय होता है , गर्मी ज्यादा होने के कारण वह घरों में ही रहते है। उन्होंने कहा कि शाम को गर्मी थोड़ा कम होती है। शहरी लोग शाम को खरीददारी के लिए निकलते है। लेकिन छह बजे दुकानें बंद होने के कारण दुकानों पर ग्राहकी नहीं हो पा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.