पुण्य के साथ-साथ मोक्ष भी देता है श्रीमद्भागवत

पुण्य के साथ-साथ मोक्ष भी देता है श्रीमद्भागवत

श्री सनातन धर्म हरि मंदिर में शिवरात्रि के पावन पर्व के उपलक्ष्य में श्रीमद् भागवत ज्ञान महायज्ञ का आरंभ गणपति पूजन से किया गया।

JagranFri, 05 Mar 2021 04:39 PM (IST)

संवाद सहयोगी मोगा : श्री सनातन धर्म हरि मंदिर में शिवरात्रि के पावन पर्व के उपलक्ष्य में श्रीमद् भागवत ज्ञान महायज्ञ का आरंभ गणपति पूजन से किया गया। समस्त भक्तों ने गणपति पूजन, नवग्रह पूजन व कलश पूजन किया। इसके उपरांत श्रीमद् भागवत पुराण की पूजा की गई। श्रीमद् भागवत कथा करते प्रवक्ता पवन गौड़ ने कहा कि भागवत के श्रवण से हमें जीवन जीने की कला मिलती है। पंडित पवन गौड़ ने कहा कि भागवत एक ऐसा ग्रंथ है जो हमें केवल पुण्य कार्य करने के साथ मोक्ष की प्राप्ति भी देता है। भागवत के महात्म्य में कथा आई हैं कि भक्ति देवी के बेटों को जगाने की कोशिश में असमर्थ हो गए तो नारद जी चिता में पड़ गए परंतु नारद जी ने सोचा कि चिता करने से तो कुछ नहीं बनने वाला, नारद जी ने चिता छोड़ भगवान का चितन किया तो रास्ता मिल गया। कार्य भी आसानी से बन गया। वर्तमान में कोई भी मनुष्य ऐसा नहीं है जिसे कोई चिता व परेशानी ना हो। और चिताओं से उलझनें बढ़ती हैं घटती नहीं। इसलिए भागवत ग्रंथ हमें बताता है कि चिता को भगवान के चितन में बदल दो तो कार्य भी आसानी से बन जाता है। उन्होंने कहा कि यह समागम 12 मार्च तक जारी रहेगा। हमें कथा आदि में जाकर ध्यान से सुनना चाहिए। जतिन मुरली ने भजनों के माध्यम से भक्ति रस बिखेरा। इस अवसर पर सतनारायण गोयल, सतपाल जिदल, तीर्थ राम अग्रवाल, प्रेम सिगल, दिनेश गुप्ता, पवन कुमार सिगल, अजय गोयल, कृष्ण बांसल, अनिल बांसल सहित श्रद्धालुगण उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.