पांच दिन से मोगा शहर की सबसे बड़ी मंडी में न बारदाना, न गेहूं की खरीद

पांच दिन से मोगा शहर की सबसे बड़ी मंडी में न बारदाना, न गेहूं की खरीद

शहर की सबसे बड़ी नई दाना मंडी में पिछले पांच दिन से किसान खरीद एजेंसी के इंतजार में हैं आढ़तियों ने उन्हें बारदाना न होने की बात कही है।

JagranFri, 16 Apr 2021 11:39 PM (IST)

सत्येन ओझा, मोगा : शहर की सबसे बड़ी नई दाना मंडी में पिछले पांच दिन से किसान खरीद एजेंसी के इंतजार में हैं, आढ़तियों ने उन्हें बारदाना न होने की बात कही है। डीएफएससी करतार सिंह चीमा का दावा है कि किसी भी एजेंसी के पास बारदाने की कमी नहीं है। इससे सवाल उठने लगे हैं कि किसानों के खाते में सीधे धनराशि पहुंचने की व्यवस्था होने के बाद कहीं बारदाना कृत्रिम रूप से खत्म तो नहीं दिखाया जा रहा है। ताकि जिन किसानों ने आढ़तियों को एडवांस चेक दे दिए हैं, उन्हें बारदाना दिया जा रहा हो, जिन्होंने नहीं दिए, उनसे बारदाना खत्म होने का बहाना बनाया जा रहा हो। सरकार ने 48 घंटे में पेमेंट का वादा किया था, मोगा मंडी में 12 अप्रैल को खरीद शुरू हुई लेकिन 96 घंटे बाद भी जिले के एक भी किसान को फूटी कौड़ी नहीं मिली है। मंडी में न सुरक्षा का इंतजाम है न सफाई व पानी का, रात के समय छोटे-छोटे बच्चे गेहूं चोरी करने के लिए धावा बोल देते हैं, जिससे मंडी में किसानों को पूरी रात जागकर गुजारनी पड़ रही है। बच्चों से कुछ कहते हैं तो महिलाएं हंगामा करना शुरू कर देती हैं। दैनिक जागरण की टीम शुक्रवार शाम को नई दाना मंडी में पहुंची।

किसानों ने रोया दुखड़ा सुरक्षा का नहीं कोई इंतजाम

गांव सद्दासिंह वाला के किसान रंजीत सिंह ने बताया कि वे पांच दिन से मंडी में गेहूं की बिक्री का इंतजार कर रहे हैं, दो दिन पहले उन्हें 250 बोरियां दी थीं, जो भरी जा चुकी हैं, लेकिन दो दिन से उन्हें बारदाना नहीं दिया जा रहा। इससे उनके गेहूं की ढेरियां बनी हैं, लेकिन बोरियों में भर नहीं पा रहे हैं, रात में गेहूं की चोरी की वजह से ढेरियां छोटी हो रही हैं। सुरक्षा का कोई इंतजाम मंडी में नहीं है। दो दिन से नहीं मिला बारदाना

गांव सद्दासिंह वाला से आए किसान बचित्तर सिंह ने बताया कि वे दो दिन से मंडी में बैठे हैं, लेकिन अभी तक बारदाना नहीं मिला है। जबकि उनका गेहूं पूरी तरह सूखा है। बच्चे गेहूं चोरी करते पकड़े तो महिलाओं ने किया हंगामा

पिछले तीन दिन से नई दाना मंडी में बैठे गांव लोगोंदेवा के किसान निर्मल सिंह, नछत्तर सिंह, जसविदर सिंह एवं नरिदर पाल सिंह ने बताया कि तीन दिन से मंडी में गेहूं की बिक्री का इंतजार है लेकिन उन्हें बारदाना नहीं मिल पा रहा है न ही खरीद एजेंसी का कोई प्रतिनिधि उनका गेहूं खरीदने पहुंचा है। रात के समय बड़े पैमाने पर गेहूं चोरी हो रहा है, वीरवार रात को उन्होंने दो बच्चों को मौके पर पकड़ा था, बच्चों को पकड़ते ही दूर से उन्हें देख रहीं दो महिलाओं ने हंगामा शुरू कर दिया, जिससे बच्चे उन्हें छोड़ने पड़े। वे अपने साथ लाये थैले में काफी गेहूं भरकर ले गए। ये रोज होता है। मंडी में न सफाई न पानी की व्यवस्था

डरोली भाई से पहुंचे सुखमंदर ने बताया वे दो दिन से मंडी में ढेरियां लगाकर बैठे हैं, लेबर पहले से ही कम है, वे बुलाते हैं, लेकिन पिछले दो दिन से लेबर के लोग शाम को वापस चले जाते हैं। बारदाना न मिलने से लेबर भी काम नहीं कर पा रही है। लेबर की समस्या पहले से ही है। सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है न तो मार्केट कमेटी ने सफाई कराई हैं न ही पानी के उचित प्रबंध है। वीरवार को पूरे दिन बिजली नहीं रही, जिसके कारण गर्म पानी पीने को मजबूर होना पड़ा। क्या है पानी के प्रबंध

मंडी में तीन कोनों पर पानी की चार टंकियां लगा रखी हैं, दिनभर टंकी धूप में रहने से उसमें आग उगलता पानी निकलता है। साबुन या सैनिटाइजर रखने वाले स्थान न साबुन है न सैनिटाइजर। मात्र टंकियां रख मार्केट कमेटी ने औपचारिकता पूरी कर दी है।

----------

सभी खरीद एजेंसियों के पास बारदाना अभी पर्याप्त मात्रा में है, किसी ने वारदाना कम होने की बात नहीं की है, किसान अगर शिकायत कर रहे हैं तो इसकी जांच करेंगे जहां तक भुगतान का मामला है तो कल से किसानों को पेमेंट होना शुरू हो जाएगी।

-करतार सिंह चीमा, डीएफएससी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.