कबूतरबाजी मुकाबला करवाने वाले पांच गिरफ्तार, 22 पर केस दर्ज

कबूतरबाजी मुकाबला करवाने वाले पांच गिरफ्तार, 22 पर केस दर्ज

जिले के गांवों में मिनी लाकडाउन के बावजूद कबूतरबाजी मुकाबले थम नहीं पा रहे हैं।

JagranTue, 11 May 2021 11:15 PM (IST)

संवाद सहयोगी,मोगा

जिले के गांवों में मिनी लाकडाउन के बावजूद कबूतरबाजी मुकाबले थम नहीं पा रहे हैं। नया मामला थाना बाघापुराना क्षेत्र के गांव माहलकलां में सामने आया है। पुलिस ने 22 लोगों के खिलाफ कोरोना प्रोटोकाल का उल्लंघन करने का केस दर्ज किया है। पांच लोगों को मौके से गिरफ्तार किया गया है। बाकी आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

मिनी लाकडाउन में भी कुछ लोग मान नहीं रहे हैं, अपने साथ दूसरे लोगों की जिदगी को भी खतरे में डाल रहे हैं। कबूतरबाजी प्रतियोगिता की शुरूआत गांव महेसरी से हुई थी। उस समय गिरफ्तार होने के बाद सुखजिदर सिंह महेसरी ने धमकी दी थी कि वे एसएसपी के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे लेकिन पुलिस की सख्ती के बाद वे प्रदर्शन की हिम्मत नहीं जुटा सके।

थाना बाघापुराना के जांच अधिकारी सहायक थानेदार बूटा सिंह ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि गांव माहलां कलां में सरकारी आदेशों का उल्लंघन करके कुछ लोग कबूतरबाजी करवा रहे हैं। उन्होंने छापेमारी कर सतनाम सिह, लखविदर सिंह लक्खा, मनप्रीत सिंह उर्फ निक्का, बलकरन सिंह उर्फ सीपा, हरप्रीत सिंह उर्फ पीता को गिरफ्तार कर लिया, जबकि गुरजंट सिंह गिल,गुरजंट सिंह, जस्सा सिंह,लक्खा माहला, हरजोत मल्ली, गुरजंट मल्ली, गौरी पहलवान, पाल कबड्डी,अनमोल, गुरपिदर, बल्ली, जीवन सरपंच, लक्खा कबड्डी, पलविदर बराड़, गुरलाभ सिंह, बलजिदर सिंह व मनदीप सिंह मौके से फरार हो गए। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्होंने काबू और फरार हुए लोगों के खिलाफ धारा 188 के अधीन केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जिला मजिस्ट्रेट ने जिले में लगाई और पाबंदियां जिला मजिस्ट्रेट कम डिप्टी कमिश्नर मोगा संदीप हंस ने कहा कि कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए मिशन फतेह के तहत नगर निगम, नगर कौंसिल बाघापुराना, धर्मकोट, नगर पंचायत निहाल सिंह वाला, बधनी कलां, कोटईसे खां, फतेहगढ पंजतूर की म्यूनिसिपल सीमा में कुछ ट्रेड व सेवाएं शुरू करने के आदेश दिए गए थे, लेकिन सरकार द्वारा जारी कुछ पाबंदियां लगानी रह गई थीं।

इसे देखते हुए पंजाब में दाखिल होने वाले व्यक्ति के लिए 72 घंटे पुरानी निगेटिव कोविड रिपोर्ट या दो सप्ताह पुराना वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट (कम से कम एक डोज) दिखाना होगा। सरकारी दफ्तरों में तैनात सेहत, फ्रंटलाइन वर्कर जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाई, वे ड्यूटी पर हाजिर रहने के लिए आरटीपीसीआर रिपोर्ट पेश करेंगे। ये रिपोर्ट पांच दिन से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए। पब्लिक ट्रांसपोर्ट को 50 प्रतिशत समर्था से चलने की मंजूरी होगी। ई-कामर्स वस्तुओं की आवाजाही की वैक्सीनेशन सेंटरों पर मंजूरी होगी। कोविड प्रबंधन संबंधी भर्तियों को छोड़कर सभी भर्तियों की परीक्षाएं स्थगित की जाती हैं। जिन इलाकों में संक्रमितों की दर ज्यादा है वहां माइक्रो कंटेनमेंट जोन को बढ़ाया जाएगा तथा इसका सख्ती से पालन किया जाएगा। इन सभी कार्यो के लिए स्पेशल मोनीटर तैनात किए जाएंगे। रोड व स्ट्रीट वेंडर का आरटीपीसीआर टेस्ट किया जाएगा। सारे धार्मिक स्थानों को रोजाना सायं छह बजे तक बंद किया जाए। जिला मजिस्ट्रेट ने दो टूक कहा, इन आदेशों की अवहेलना करने वालों पर धारा 188 तथा डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 की धारा 51-60 के तहत कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.