धर्म की आराधना से मिलता है सुख: डा. सुनीता

जैन स्थानक में साध्वी डा. सुनीता ने कहा कि संसार में धर्म की आराधना श्रेष्ठ है।

JagranThu, 23 Sep 2021 09:27 PM (IST)
धर्म की आराधना से मिलता है सुख: डा. सुनीता

जासं, मौड़ मंडी: जैन स्थानक में साध्वी डा. सुनीता ने कहा कि संसार में धर्म की आराधना श्रेष्ठ है। धर्म की आराधना से व्यक्ति का जीवन सुखी-समृद्ध होता है। धर्म को धारण करने वाले व्यक्ति का कर्म और जीवन दोनों पवित्र हो जाते हैं। व्यक्ति सुख एवं समृद्धि का पात्र बनकर सामाजिक प्रतिष्ठा को प्राप्त करता है।

उन्होंने कहा कि उदारता और परोपकार ही मानवता के आभूषण हैं, जिससे व्यक्ति महान बनता है जबकि स्वार्थी व्यक्ति का जीवन नीरस हो जाता है। सबका सम्मान और सभी का कल्याण चाहने की दीक्षाएं देने के कारण ही धर्म आज संपूर्ण विश्व में विशेष स्थान प्राप्त कर रहा है। जिस धर्म में स्त्री को देवी और लक्ष्मी का स्वरूप मानकर और पिता को भगवान का दर्जा देकर पूजा जाता हो उसे महान बनने से कोई रोक नहीं सकता। धर्म और संस्कृति में राष्ट्र और समाज के लिए उपयोगी सभी वस्तुओं का भगवान का स्वरूप मानकर पूजा जाता है यही कारण है कि सनातन धर्म के अनुयायी सदा सुखी स्वस्थ एवं समृद्धिशाली रहते हैं।

साध्वी शुभिता ने कहा कि मनुष्य को कभी झूठ का सहारा जीवन में नहीं लेना चाहिए। सत्य प्रताड़ित हो सकता है, लेकिन परास्त नहीं हो सकता है। सत्य की जीत होती है, लेकिन उसमें कुछ समय लग जाता है। असत्य कुछ दिन ही सत्य पर भारी पड़ सकता है, लेकिन अंत में सत्य की असत्य पर जीत होती है। साध्वी ने कहा कि असत्य बोलने से गूगापन, अज्ञानता मुख में रोग, विवेक शून्यता आती है। सत्य ईश्वर की आत्मा है और प्रकाश उसका शरीर है। असत्य बोलने वाले का कोई विश्वास नहीं करता है। सत्य निष्ठ व्यक्ति के पास सरस्वती का वास होता है। सत्य तो सत्य है दवाई की तरह है ना मीठा है ना कड़वा है। सत्य बोलने से वचन सिद्धि हो जाती है। सत्य की हमेशा जीत होती है। रिश्तों की बगिया में एक रिश्ता नीम के पेड़ जैसा भी रखना जो सीख भले ही कड़वी देता हो पर तकलीफ में मरहम भी बनता है। धर्म पवित्र हृदय में ही बसता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.