top menutop menutop menu

सत्संग से लौट रहे दंपती को ट्रक ने कुचला, पत्नी की मौत; पति जख्मी Ludhiana News

लुधियाना, जेएनएन। कोहाड़ा-माछीवाड़ा रोड पर सत्संग घर से लौट रहे एक्टिवा पर सवार दंपती को तेज गति  ट्रक ने अपनी चपेट में ले लिया। हादसे में पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि पति को मामूली चोटें आई हैं जिसे उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। मौके पर पहुंची थाना कूमकलां पुलिस ने शव को सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। ट्रक चालक ट्रक छोड़ कर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ केस दर्ज कर ट्रक को थाने ले आई।

मृतक महिला की पहचान कोहाड़ा गांव की गुरदियाल कौर के रूप में हुई है। मृतका के पति हरचरण सिंह ने बताया कि वह वीरवार की शाम अपनी पत्नी के साथ माछीवाड़ा इलाके में बने सत्संग घर से वापस लौट रहे थे। रास्ते में पीछे से आ रहे एक तेज रफ्तार ट्रक ने उन्हें अपनी चपेट में ले लिया। जिससे एक्टिवा पर पीछे बैठी उसकी पत्नी सड़क पर गिर गई, जिसके सिर के ऊपर से ट्रक निकल गया। उसने मौके पर दम तोड़ दिया। थाना कूमकलां के जांच अधिकारी एएसआइ जसवीर सिंह ने बताया कि मृतका महिला के पति हरचरण सिंह के बयानों पर ट्रक चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर दिया गया है।

-------------------------------------------------

पिटाई से पत्नी का गर्भपात, पति को कैद

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश बलविंदर कुमार की अदालत ने गर्भवती पत्नी से मारपीट करने और पिटाई से गर्भ में बच्चे की मौत होने पर फ्रेंडस कॉलोनी निवासी दोषी पति परमिंदर सिंह को पांच वर्ष कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने उसे पांच हजार रुपये का जुर्माना भी किया है। पुलिस थाना साहनेवाल में छह दिसंबर 2014 को दोषी के खिलाफ मारपीट और दहेज की मांग करने के आरोप में मामला दर्ज किया था।

24 जुलाई को रघुबीर सिंह ने मानवाधिकार आयोग चंडीगढ़ में शिकायत दी थी। उसमें आरोप लगाया था कि उसकी पुत्री जसजीत कौर की शादी परमिंदर के साथ आठ नवंबर 2013 को हुई थी। शादी के बाद से ही वह उसकी बेटी को कम दहेज लाने के ताने देकर परेशान करता था। उन्होंने परमिंदर को 50 हजार रुपये भी दिए थे। इसके बावजूद आरोपी ने उनकी बेटी को परेशान करना जारी रखा। एक दिन आरोपित ने उनकी गर्भवती बेटी को दहेज की मांग पूरी न होने पर पीटा। उसे मारने की कोशिश भी की। अस्पताल में दाखिल करवाया तो पता चला कि उसका गर्भपात हो गया है। पुलिस ने भी सही कार्रवाई नहीं की तो उन्होंने आयोग में शिकायत की।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.