शिअद डेमोक्रेटिक यूथ विंग समिति में रायकोट को भी मिला प्रतिनिधित्व, दो सदस्य शामिल

समन्वय समिति में विभिन्न वर्गाें से जुड़े 14 युवाओं को शामिल किया गया है। (फाइल फोटो)
Publish Date:Sat, 24 Oct 2020 11:01 AM (IST) Author: Vikas_Kumar

रायकोट, जेएनएन। शिरोमणि अकाली दल (डेमोक्रेटिक) ने यूथ विंग की समन्वय समिति का गठन किया है। इसमें विभिन्न वर्गाें से जुड़े 14 युवाओं को शामिल किया गया है, समिति में दो सदस्य रायकोट से लिए गए हैं, इससे पार्टी वर्करों में उत्साह का आलम है। रायकोट के दोनों सदस्यों मनजीत सिंह एवं मनप्रीत सिंह तलवंडी ने कहा कि वे पार्टी की नीतियों को घर घर पहुंचाएंगे। साथ ही पार्टी को जमीनी स्तर पर मजबूत करने के लिए लगातार प्रयासरत रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगले विधानसभा चुनावों में पार्टी की स्थिति को अौर बेहतर बनाने के लिए काम करेंगे।

शिरोमणि अकाली दल डेमोक्रेटिक के प्रधान सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि समिति के सदस्य अन्य समितियों के साथ तालमेल करके सूबे के अलग अलग कोने तक पहुंचने का काम करेगी। समिति में सतगुरु सिंह नमोल, जगरूप सिंह सेखवां (गुरदासपुर), हरजिन्दर सिंह बोबी गरचा (लुधियाना), अवजीत सिंह(बरनाला), मनप्रीत सिंह तलवंडी (रायकोट), सुखविन्दर सिंह चौहान (गुरदासपुर), हरपाल सिंह खड्याल(संगरूर),संदीप सिंह रुपालों (खन्ना), एम जिन्दल (बरनाला), महीपाल सिंह, कुलबीर सिंह बंगा, रणधीर सिंह (दिढ़बा), रणबीर सिंह देहलें (संगरूर) और मनजीत सिंह (रायकोट) शामिल किए गए हैं।

सुखदेव सिंह ढींडसा ने कहा कि नौजवान किसी भी देश का भविष्य होते हैं और राजनीति में उन की शमूलियत अति ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि यह समिति नौजवानों के साथ तालमेल बना कर भविष्य की योजनाबंदी के कार्य को पूरा करेगी। इस समिति का भविष्य में विस्तार किया जाएगा। ढींडसा ने कहा कि पार्टी नौजवानों को और ज्यादा मौके प्रदान करेगी, जिससे वे नयी सोच के साथ पंजाब और देश की सेवा कर सकें। मनप्रीत सिंह तलवंडी और मंजीत सिंह ने इस सम्मान के लिए सुखदेव सिंह ढींडसा और पार्टी के वरिष्ठ नेता रणजीत सिंह तलवंडी का धन्यवाद किया और पार्टी की तरक्की के लिए काम करने का संकल्प लिया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.