Doctors Strike In Punjab: पंजाब के सरकारी अस्पतालाें में डाक्टरों की हड़ताल एक सप्ताह बढ़ी, ओपीडी व अन्य सेवाएं रहेंगी ठप

Doctors Strike In Punjab प्रदेश भर में सरकारी अस्पतालों के डाक्टरों की चल रही हड़ताल अब शुक्रवार तक जारी रहेगी। यह फैसला पीसीएमएस एसोसिएशन की देर रात हुई मीटिंग में लिया गया। यानी अगले पांच दिन सरकारी अस्पतालों में ओपीडी व अन्य सेवाएं जारी नहीं रहेंगी।

Vipin KumarSun, 25 Jul 2021 08:58 AM (IST)
प्रदेश भर में सरकारी अस्पतालों के डाक्टरों की चल रही हड़ताल अब शुक्रवार तक जारी रहेगी।

जासं, लुधियाना। Doctors Strike In Punjab : प्रदेश भर में सरकारी अस्पतालों के डाक्टरों की चल रही हड़ताल अब शुक्रवार तक जारी रहेगी। यह फैसला पीसीएमएस एसोसिएशन की देर रात हुई मीटिंग में लिया गया। यानी अगले पांच दिन सरकारी अस्पतालों में ओपीडी व अन्य सेवाएं जारी नहीं रहेंगी और मरीजों को समस्याओं को सामना करना पड़ेगा।

डाक्टरों ने सोमवार से पूर्ण हड़ताल करने का फैसला लिया था, लेकिन स्वास्थ मंत्री ने उनसे शुक्रवार तक का समय मांगा है। इसके बाद डाक्टरों ने फैसला लिया कि शुक्रवार तक स्ट्राइक जारी रहेगी। ओपीडी सर्विस, इलेक्टिव सर्जरी, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, वेबिनार, यूडीआइडी कैंप, सरबत बीमा योजना, वीआईपी डयूटी, आर्म्स लाइसेंस औऱ ड्राइविंग लाइसेंस, डोप टेस्ट की सेवाओं का बायकॉट रहेगा।

यह भी पढ़ें-Punjab Weather Alert! पंजाब में कल से तीन दिन झमाझम बरसेगा मानसून, मौसम विभाग ने जारी किया आरेंज अलर्ट

 

छठे वेतन आयाेग की सिफारिशों का विरोध

बता दें कि छठे वेतन आयाेग की सिफारिशों का विरोध कर रहे सरकारी डाक्टरों की ओर से पिछले काफी दिनों से ओपीडी का बायकाट किया जा रहा है। इस बीच डाक्टर्स मे पैरलल ओपीडी भी चलाई पर अभी भी अस्पताल में कई ऐसे मरीज पहुंच रहे हैं, जिन्हें हड़ताल का पता नहीं है और परेशान हो बिना इलाज के उन्हें वापस लौटना पड़ रहा है। मरीजों ने यह भी कहा कि अस्पताल में उन्हें गाइड करने वाला भी कोई नहीं है।

यह भी पढ़ें-Punjab Congress Politics: लुधियाना पहुंचे Navjot Sidhu ने मंत्री आशु के घर पी चाय, विधायकों से की मुलाकात; देखें तस्वीरें

इमरजेंसी से भी वापस भेज दिया गया

शिमलापुरी की कुलदीप कौर अपने पति पवन के साथ इलाज के लिए अस्पताल की ओपीडी पहुंची। पथरी के दर्द की शिकायत के बाद भी उन्हें किसी तरह का इलाज नहीं मिला। कुलदीप ने यह भी कहा कि वह अस्पताल की इमरजेंसी में भी गए, लेकिन उन्हें यह वापिस भेज दिया गया कि ओपीडी में ही चेक कराएं।

यह भी पढ़ें-नशेड़ी ने NRI को लगाया लाखों का चूना, लुधियाना में कबाड़ी को बेच दिया घर का फर्नीचर और सामान; जानें कैसे खुला भेद

 

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.