बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के वीसी बोले- पंजाब में अभी ऑक्सीजन की कमी नहीं, कोरोना टेस्टिंग बढ़ाने को लगाई जा रहीं 3 मशीनें

बाबा फरीद मेडिकल यूनिर्वसिटी के वाइस चांसलर डा. राज बहादुर।

बाबा फरीद मेडिकल यूनिर्वसिटी के वाइस चांसलर डा. राज बहादुर ने कहा कि प्रदेश के तीनों सरकारी मेडिकल कालेजों (फरीदकोट पटियाला व अमृतसर) के प्लांटों में ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में तैयार हो रही है। टेस्टिंग बढ़ाने के लिए यहां तीन मशीनें भी लगाई जा रही हैं।

Pankaj DwivediWed, 21 Apr 2021 04:49 PM (IST)

फरीदकोट [प्रदीप कुमार सिंह]। कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में सहायक ऑक्सीजन की फिलहाल पंजाब में कहीं किल्लत नहीं है। प्रदेश के तीनों सरकारी मेडिकल कालेजों (फरीदकोट, पटियाला व अमृतसर) के प्लांटों में ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में तैयार हो रही है। प्रदेश में कोरोना महामारी के तेजी से पैर पसारने को  देखते हुए कोरोना सैंपलों की टेस्टिंग बढ़ाने और टाइमिंग और कम करने के लिए तीनों मेडिकल कालेजों में कुल 75 लाख रुपये की लागत से एक-एक और आरएनए मशीन इंस्टाल की जा रही है।

 

यह बात बुधवार को बाबा फरीद मेडिकल यूनिर्वसिटी के वाइस चांसलर डा. राज बहादुर ने कही। उन्होंने बताया कि अभी एक सैंपल की जांच करने में 12 से 24 घंटे का समय लग रहा है। जब तीनों मेडिकल कॉलेजों की कोरोना टेस्टिंग लैब में एक-एक आरएनए मशीन काम करना शुरू कर देगी तो सैंपलों की टाइमिंग कम होगी। इससे हम तेजी से सैंपलों की जांच पूरी कर पाएंगे। वीसी ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में रोजाना 35,000 कोरोना सैंपलों की जांच हो रही है, इसमें और बढ़ोत्तरी किए जाने के प्रयास हो रहे हैं। अकेले फरीदकोट मेडिकल कॉलेज में बुधवार को 8200 कोरोना सैंपलों की जांच हुई।

 

होम आइसोलेट मरीज के घर रोजाना विजिट करेगी स्वास्थ्य विभाग की टीम

 

वाइस चासंलर ने बताया कि वर्तमान में सामान्य कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेट किया जा रहा है जबकि गंभीर मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से देखा जा रहा है कि होमआइसोलेशन में रहने वाले लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। इसे देखते हुए अब आइसोलेशन की मॉनिटिरिंग बढ़ाई जा रही है। सेहत विभाग की टीम होम आइसोलेट व्यक्ति के घर पर रोजाना विजिट करेगी।

 

फरीदकोट के सिविल सर्जन डॉ. संजय कपूर ने कहा कि सेहत विभाग लगातार महामारी रोकने का प्रयास कर रहा है। इसमें तभी सफलता मिलेगी जब इसे लोगों का सहयोग मिलेगा। लोग कोरोना टेस्ट करवाने व कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए आगे आएं।

 

तीन आरएनए पंजाब सरकार को दान में मिली 

वीसी ने बताया कि उन्होंने अपने एक दोस्त से अमेरिका निर्मित तीन आरएनए मशीनें पंजाब सरकार को दान करवाई हैं। ये तीनाें मशीनें प्रदेश के तीनों सरकारी मेडिकल कालेजों में लगाई जा रही हैं। फरीदकोट मेडिकल कालेज में यह इंस्टाल हो गई है। इन मशीनों के चलने से कोरोना सैंपलों की टेस्टिंग और तेज होगी।

नियमों का पालन नहीं किए जाने से बढ़ रहे संक्रमित

कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ाने का बड़ा कारण कोरोना संक्रमितों द्वारा नियमों का सही रूप से पालन न किया जाना है। पीड़ित होम आइसोलेशन की बात करके अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। वे परिवार, दोस्त व अन्य लोगों को संक्रमित कर रहे हैं। कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की पहचान करने के साथ उन्हें सख्ती के साथ आइसोलेशन के नियमों का पालन करने के लिए बाध्य करने की जरूरत है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.