लुधियाना में पेंशनर्स ने किसानों के संघर्ष का किया समर्थन, कानून रद करने की मांग उठाई

एसोसिएशन ने केंद्र सरकार से कानून रद करने की मांग की है।

पंजाब फूड सिवल इंप्लाइज एंड कंज्यूमर अफेयर्स डिपार्टमेंट पेंशनर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने किसानों को समर्थन देते हुए कृषि सुधार कानूनों को रद करने की मांग की है। एसोसिएशन के पंजाब प्रधान हरदेव सिंह रोशा ने कहा कि कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसानों ने दिल्ली में धरना लगाया है।

Publish Date:Sat, 05 Dec 2020 11:46 AM (IST) Author: Rohit Kumar

खन्ना, (लुधियाना) जेएनएन। कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसानों के संघर्ष का पंजाब फूड सिवल इंप्लाइज एंड कंज्यूमर अफेयर्स डिपार्टमेंट पेंशनर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने समर्थन किया है। एसोसिएशन ने केंद्र सरकार से कानून रद करने की मांग की है। एसोसिएशन के पंजाब प्रधान हरदेव सिंह रोशा ने कहा कि कृषि सुधार कानूनों के विरोध में किसानों ने दिल्ली में धरना लगाया है।

किसी भी सरकार की तरफ से जारी किए कानून लोगों की भलाई के लिए होते हैं न कि लोगों का शोषण करने के लिए। किसान इन कानूनों को लागू नहीं करवाना चाहते, पर सरकार धक्के के साथ लागू करके लोगों पर थोपने वाला काम कर रही है। इन कानूनों से किसान तबाह हो जाएगा। इसके साथ ही मंडियों में काम करने वाले मजदूर, आढ़ती, मुनीम, पल्लेदार मंडी पर निर्भर हैं। वे सब भी बेरोजगार होंगे। इन कानूनों से सरकारी खरीद एजेंसियों का नुक्सान होगा। इससे बेरोजगारी बढ़ेगी। गरीब और गरीब होगा व अमीर और अमीर होते जाएंगे।

किसान संघर्ष में लंगर की सेवा के लिए जत्था दिल्ली रवाना

जेएनएन, रायकोट। गांव धालिया से दिल्ली किसान संघर्ष में लंगर की सेवा करने के लिए दो ट्रैक्टर ट्रालियां सरपंच अमरिंदर सिंह धालिया और खजांची सुखदेव सिंह के नेतृत्व में रवाना हुईं। सरपंच अमरिंदर सिंह धालिया ने बताया केंद्र सरकार कृषि कानूनों को रद करने के बजाय गुमराह कर रही है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि किसानों की हिमायत के लिए गांव धालिया से एनआरआइ, समूह नगर निवासियों और नौजवानों की तरफ से लंगर की सेवा करने के लिए जत्था रवाना हुआ है। इस मौके प्रधान हरी सिंह, प्रधान शेरजंग सिंह, शेर सिंह, सुखदेव सिंह और अन्य नौजवान उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.