लुधियाना में वीसी ने कूड़े का ढेर लगाने की धमकी देने वाली पीएयू फोर्थ क्लास यूनियन को मनाया

वर्तमान में पीएयू टीचर्स एसोसिएशन और पीएयू इंप्लाइज यूनियन का धरना जारी है। (सांकेतिक फोटो)

लुधियाना स्थित पीएयू की फोर्थ क्लास यूनियन ने बैठक कर अपना धरना वापस ले लिया है। दूसरी ओर पीएयू टीचर्स एसोसिएशन और पीएयू इंप्लाइज यूनियन अभी भी धरने पर हैं और वीसी ने उनकी मांगों को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 05:30 PM (IST) Author: Pankaj Dwivedi

लुधियाना, जेएनएन। पिछले 41 दिनों से लगातार धरने पर चल रही पंजाब एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी के विभिन्न यूनियनों को उस समय झटका लगा, जब पीएयू के वाइस चांसलर डा. बलदेव सिंह ढिल्लों ने पीएयू फोर्थ क्लास यूनियन को मना कर अपने पक्ष में कर लिया। फोर्थ क्लास यूनियन ने बैठक कर अपना धरना वापस ले लिया। इससे पहले उन्होंने वाइस चांसलर और रजिस्ट्रार के साथ बैठक की, जिसमें उनकी 16 मांगों में से 13 मांगों पर तुरंत विचार करने और तीन मांगों को अगले हफ्ते होने वाली बोर्ड की मीटिंग में रखने का आश्वासन दिया गया।

उल्लेखनीय है कि इस यूनियन ने दो दिन पहले धमकी दी थी कि यदि उनकी मांगों को नहीं माना गया तो वह थापर हाल स्थित वाइस चांसलर के कार्यालय के बाहर कूड़े का ढेर लगा देंगे। साथ ही पीएयू कैंपस में सभी सफाई काम ठप कर दिए जाएंगे। उसके बाद वीसी ने उनके नेता कमल सिंह और उप प्रधान नंद किशोर को अपने कार्यालय में सुबह 11 बजे बुलाया। उनकी मांगों को ध्यान से सुना और उन्हें आश्वासन दिया कि पीएयू प्रबंधन उनके साथ हैं। कर्मचारियों की समस्याएं दूर करना उनकी पहली प्राथमिकता है।

पीएयू टीचर्स एसोसिएशन और पीएयू इंप्लाइज यूनियन का धरना जारी

वर्तमान में पीएयू टीचर्स एसोसिएशन और पीएयू इंप्लाइज यूनियन अभी भी धरने पर हैं और वीसी ने उनकी मांगों को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है। फोर्थ क्लास यूनियन के हटने के फैसले से आहत दोनों यूनियनों ने अपना संघर्ष जारी रखने का एेलान है। पीएयू इंप्लाइज यूनियन के प्रधान बलदेव वालियाने कहा कि जल्द ही पंजाब के अन्य मुलाजिम संगठन भी उनके संघर्ष में शामिल होकर रैली करने जा रहे हैं। उन्होंने फिर से थापर हाल बंद करने की चेतावनी दी है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.