Navjot Sidhu के पंजाब प्रधान बनने पर लुधियाना में भी जश्न, कांग्रेस भवन में कार्यकर्ताओं ने बांटे लड्डू

सोमवार को घंटाघर स्थित जिला कांग्रेस दफ्तर में प्रधान अश्वनी शर्मा के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने लड्डू बांटे और एक दूसरे को बधाई दी। इस दौरान कांग्रेसियों ने सूबा प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू एवं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पक्ष में जमकर नारेबाजी की।

Pankaj DwivediMon, 19 Jul 2021 12:50 PM (IST)
लुधियाना में कांग्रेस भवन के आगे एक-दूसरे को लड्डू खिलाकर खुशी का इजहार करते हुए वर्कर्स।

जागरण संवाददाता, लुधियाना। Punjab Congress Party Politics क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने नवजाेत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने के बाद जिला कांग्रेस में भी जश्न का माहौल है। सोमवार को घंटाघर स्थित जिला कांग्रेस दफ्तर में प्रधान अश्वनी शर्मा के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने लड्डू बांटे और एक दूसरे को बधाई दी। इस दौरान कांग्रेसियों ने सूबा प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू एवं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh)  के पक्ष में जमकर नारेबाजी की गई।

कांग्रेसियों का मानना है कि सिद्धू की कमान में कांग्रेस पार्टी अगले विधानसभा चुनावाें में जबरदस्त प्रदर्शन करके फिर से पंजाब में सरकार बनाएगी। रविवार की देर रात ही कांग्रेस आलाकमान ने नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस का प्रधान घोषित कर दिया। इसके बाद उनके समर्थकों में जोश भर गया। सुबह कांग्रेस भवन में भी चहल पहल दिखी। कांग्रेस भवन में नेता एवं कार्यकर्ता सिद्धू के प्रधान बनने पर कांग्रेस में आने वाले संभावित बदलाव के बारे में मंथन करते हुए दिखे। 

 आलाकमान का फैसला सबको मान्यः जिला प्रधान अश्वनी शर्मा

 जिला प्रधान अश्वनी शर्मा का कहना है कि कांग्रेस आलाकमान से नवजोत सिद्धू को सूबे का प्रधान नियुक्त किया है। आलाकमान का फैसला सर्वमान्य है और सभी पूरी एकजुटता के साथ सिद्धू के नेतृत्व में आगे बढ़ेंगे और पंजाब विधानसभा चुनावों में अपनी अपनी भूमिका निभाएंगे। सिद्धू की अध्यक्षता में पार्टी की नीतियों को जन जन तक पहुंचाया जाएगा। इस अवसर पर बड़ी संख्या में कांग्रेसी नेता एवं वर्कर मौजूद रहे। 

 रविवार को लुधियाना होकर गए थे सिद्धू

बता दें कि पंजाब कांग्रेस प्रधान के तौर नवजोत सिंह सिद्धू की ताजपोशी से पहले रविवार को वह अचानक खन्ना पहुंचे थे। वहां उन्होंने खन्ना के गुरकीरत सिंह कोटली और पायल के विधायक लखबीर सिंह लक्खा से मुलाकात कर उनका समर्थन हासिल करने की कोशिश की थी। उसके बाद वह जालंधर पहुंचे थे। वहां से पटियाला लौटते समय ही कांग्रेस हाईकमान ने उनके नाम की घोषणा कर दी थी। 

यह भी पढ़ें - नवजोत सिद्धू के प्रदेश अध्यक्ष बनने पर गरमाई सियासत, कहा- पार्टी के हर सदस्य का सहयोग लूंगा

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.