लुधियाना में 2 एएसआइ की हत्या मामला, नशा तस्करों के साथ गैंगस्टरों के सबंध खंगालने में जुटी पुलिस

गैंगस्टर दर्शन सिंह और बलजिंदर सिंह उर्फ बब्बी को रायकोट पुलिस ने नशा तस्करी के मामले में पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। पुलिस का मानना है कि ये लोग बड़े स्तर पर नशा तस्करी करते थे। इसको लेकर पुलिस गहराई से छानबीन करने में जुटी है।

Pankaj DwivediSat, 12 Jun 2021 05:52 PM (IST)
लुधियाना में दो एएसआइ हत्याकांड में पुलिस अब नशा तस्करी के रैकेट का तोड़ने में जुटी है। सांकेतिक चित्र।

जगराओं [हरविंदर सिंह सग्गू]। 15 मई को जगराओं की नई अनाज मंडी में गैंगस्टरों ने गोलियां मारकर एएसआइ भगवान सिंह और दलविंदरजीत सिंह की हत्या कर दी थी। इस मामले में भले ही सभी आरोपितों को काबू कर लिया है और दो मुख्य आरोपित एनकाउंटर में मारे जा चुके लेकिन अब पुलिस दूसरे एंगल से इस मामले को ले रही है । गैंगस्टर दर्शन सिंह और बलजिंदर सिंह उर्फ बब्बी का पुलिस रिमांड समाप्त होने के बाद इन दोनों को रायकोट पुलिस ने नशा तस्करी के मामले में पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया है। 

पुलिस का मानना है कि अपराधिक गतिविधियों के साथ यह लोग बड़े स्तर पर नशा तस्करी करते थे। इसको लेकर पुलिस गहराई से छानबीन करने में जुटी हुई है। इस संबंध में जयपाल भुल्लर गैंग के अन्य गुर्गे भी पुलिस की नजर में हैं। आने वाले समय में उन सभी को भी प्रोडक्शन वारंट लेकर नशा तस्करी का रैकेट समाप्त करने के लिए पूछताछ की जा सकती है। 

गौरतलब है कि गैंगस्टर दर्शन सिंह सहोली की पत्नी से पुलिस ने 550 ग्राम अफीम बरामद की थी। उसके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के अधीन मुकदमा दर्ज किया गया। इसके अलावा दर्शन सिंह की बुआ का लड़का मनजीत सिंह फौजी को रायकोट पुलिस ने 70 किलोग्राम भुक्की, चूरा-पोस्त के साथ गिरफ्तार किया गया था। उसी ने नशा तस्करी में दर्शन सिंह और बलजिंदर सिंह के नाम का खुलासा किया था। पुलिस ने जहां गैंगस्टरों का बड़ा नेटवर्क ध्वस्त करने में सफलता हासिल की है, वहीं अब नशा तस्करी के पूरे रैकेट का भंडाफोड़ करने की तैयारी में है।

गैंगस्टर जयपाल भुल्लर के लाइफस्टाइल से उसका मुरीद बना था भरत

जगराओं। दो एएसआइ हत्या मामले में पुलिस एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर जयपाल भुल्लर और जसप्रीत सिंह उर्फ जस्सी के गिरेबान तक पुलिस साहनेवाल के सब्जी विक्रेता भरत के माध्यम से पहुंची। सूत्रों के अनुसार मजदूरी करने वाला भरत फेसबुक के माध्यम से जयपाल भुल्लर के संपर्क में आया था। वह उसके लाइफस्टाइल से बेहद प्रभावित था। इसका लाभ जयपाल भुल्लर और उसके साथियों ने कई बार उठाया। जगराओं में थानेदारों की हत्या करने के बाद यह दोनों फरार हुए थे तो पुलिस लुकआउट जारी किया गया था। इन पर इनाम घोषित कर दिया गया था। देशभर में इस हत्याकांड की चर्चा हुई थी। उसके बावजूद इन दोनों को छिपने के लिए अपने ससुराल परिवार की सहायता से राजारहाट न्यू टाउन अपार्टमेंट बंगाल में पहुंचे थे।

पुलिस भरत से पूछताछ में पता लगाएगी भुल्लर गैंग में और कौन शामिल

आने वाले दिनों में पुलिस भरत को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर पूछताछ कर सकती है। इसमें यह पता लगाने की कोशिश की जाएगी कि भरत के जयपाल भुल्लर गैंग के अलावा और किन गैंगस्टरों के साथ संबंध है। जयपाल भुल्लर गैंग के और सदस्य कौन हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.