लुधियाना के कांग्रेस नेताओं ने खालिस्तान समर्थक पन्नू की तस्वीर पर पोती कालिख, जानें कारण

मेहता ने कहा कि खालिस्तान समर्थकों ने पंजाब में मुंह की खाने के बाद अब हिमाचल हरियाणा की तरफ रुख कर लिया है। उन्होंने पन्नू जैसे विदेशों में शरण लिए बैठे देशद्रोहियों की कड़े शब्दों में निदा की है।

Vipin KumarWed, 04 Aug 2021 12:04 PM (IST)
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने खालिस्तान समर्थक पन्नू की तस्वीर पर कालिख पोती। (जागरण)

जासं, लुधियाना। पंजाब कांग्रेस कमेटी के पूर्व सचिव व पूर्व पार्षद परमिंदर मेहता के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने खालिस्तान समर्थक पन्नू की तस्वीर पर कालिख पोती। परमिंदर मेहता ने प्रधानमंत्री को मेल भेज कर मांग की है कि पन्नू जैसे कथित देशद्रोहियों को भारत लाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जो भी औपचारिकताएं पूरी करनी हैं उन्हें जल्द पूरा करें। अगर वह देश खालिस्तान समर्थक पन्नू को भारत को सौंपने से इंकार करता है तो यूएनओ की सहायता से उसे पनाह देने वाले देशों पर दबाव बनाया जाए।

मेहता ने कहा कि खालिस्तान समर्थकों द्वारा पंजाब में मुंह की खाने के बाद अब हिमाचल, हरियाणा की तरफ रुख कर लिया है। उन्होंने पन्नू जैसे विदेशों में शरण लिए बैठे देशद्रोहियों की कड़े शब्दों में निदा करते हुए कहा कि यह लोग विदेश में बैठे भारत विरोधी अपने आकाओं को खुश करने के लिए जो घटिया काम कर रहे है उन्हें किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

यह भी पढ़ें-हरियाणा के किसान नेता चढूनी की सियासी आकांक्षा अब पंजाब में जागी, कहा- 2022 चुनाव में सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे

 

पंजाबियों ने खालिस्तान की मांग को कर दिया है खारिज

मेहता ने जोर देकर कहा कि जब पंजाबियों ने खालिस्तान की मांग को ख़ारिज कर दिया तो यह देशद्रोही हिमाचल, हरियाणा की ओर रुख कर वहां राष्ट्र विरोधी गतिविधियां करने की धमकियां देने लगे है। ताकि विदेशों में बैठे इनकी रोजी रोटी चल सकें। मेहता ने कड़े शब्दों में कहा कि देशद्रोहियों को याद रखना चाहिए कि राष्ट्रीय झंडे के नाम पर सभी भारतीय एक है। हमारे झंडे को ललकारने वाले कहीं भी बैठे हो वह सीधे सीधे देशद्रोही हैं।

यह भी पढ़ें-Indian Railway News: पंजाब के हजाराें यात्रियों को साैगात, हाेशियारपुर के लिए चलेगी अनारक्षित विशेष ट्रेन; जानें कब हाेगी सेवा शुरू

 

ये रहे माैजूद

रोष प्रदर्शन में सर्बजीत सिंह बंटी, रविंदर स्यान, पवन ठाकुर, पितु गिल, मास्टर कुलवंत, रजिंदर सहोता, अरुण मोंगा, संदीप शर्मा, किशन लाल व अजय शर्मा आदि माैजूद थे।

यह भी पढ़ें-पंजाब में अदाणी लाजिस्टिक्स पार्क बंद होने से आयातक व निर्यातक मुश्किल में, करोड़ों का माल फंसा

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.