JEE Mains Result 2021: लुधियाना के कनव सिंगला ने हासिल किया 99.99 पर्सेंटाइल, माता-पिता दोनों हैं डॉक्टर

JEE Mains Result 2021 लुधियाना के कनव सिंगला ने जेईई मेन की परीक्षा में पंजाब में सेकेंड रैंक हासिल किया है। अब उनका अगला लक्ष्य जेईई एडवांस को क्रेक करना है। 3 जुलाई को जेईई एडवांस्ड है। इस एग्जाम को लेकर दिन रात तैयारी कर रहे हैं।

Kamlesh BhattTue, 09 Mar 2021 12:56 PM (IST)
कनव सिंगला ने जेईई मेन्स में 99.99 पर्सेटाइल हासिल किया है।

जेएनएन, लुधियाना। JEE Mains Result 2021: नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (National Testing Agency NTA) की ओर से घोषित किए गए ज्वाइंट एंट्रेस टेस्ट (Joint entrance exam JEE) मेन की फरवरी में हुई परीक्षा का परिणाम मंगलवार को घोषित किया गया। एनटीए इस साल चार बार जेईई मेन परीक्षा का आयोजन कर रहा है। फरवरी की परीक्षा हो चुकी हैं, जबकि मार्च, अप्रैल, मई में यह परीक्षा होनी बाकी है।

पहले अटेप्ट के परिणामों में लुधियाना के सेक्टर-39 में रहने वाले कनव सिंगला ने 99.99 पर्सेटाइल हासिल किया है। कनव सिंगला बीसीएम आर्य स्कूल शास्त्रीनगर के 12वीं का छात्र है। कनव के पिता रविकांत सिंगला एमडी मेडिसन व एनाथिसिया मां अंजू सिंगला दाेनों डाक्टर हैं और प्रेक्टिस करते हैं, जबकि भाई श्रेय सिंगला आइआइटी मुंबई में पढ़ाई कर रहा है। कनव ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय स्कूल व कोचिंग सेंटर के टीचर्स को दिया। स्कूल व कोचिंग में आनलाइन पढ़ाई करते हुए इतनी बेहतर परफार्मस टीचर्स की बदौलत है।

दो साल से कर रहे थे तैयारी, हर रोज सात से आठ घंटे पढाई की

कनव ने बताया कि जेईई मेन को लेकर वह ग्यारहवीं से तैयारी कर रहे थे। स्कूल और जेईई मेन का सिलेबस एक जैसा है, तो कोई दिक्कत नहीं आई। हर रोज स्कूल की पढ़ाई के अलावा जेईई मेन की तैयारी को लेकर सात से आठ घंटे पढ़ाई की। इसके लिए टाइम टेबल बनाया हुआ था। चंडीगढ़ के इंस्टीट्यूट से कोचिंग ले रहा था। 26 फरवरी को पहले अटेंपट का एग्जाम था। अब उनका अगला लक्ष्य जेईई एडवांस को क्रेक करना है। 3 जुलाई को जेईई एडवांस का एग्जाम है। इस एग्जाम को लेकर दिन रात तैयारी कर रहे हैं।

आइआइटी मुंबई में एडमिशन लेने का सपना

कनव ने बताया कि आइआइटी मुंबई में एडमिशन लेकर कंप्यूटर साइंस में इंजीनियर बनना चाहता है। बड़े भाई श्रेय सिंगला भी आइआइटी मुंबई में पढ़ाई कर रहे हैं। कनव ने कहा कि उन्हें मैथ में ज्यादा इंटरेस्ट था, इसलिए उन्होंने डाक्टर बनने के बजाय इंजीनियर बनना चाहा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.