Electricity Crisis In Ludhiana: बिजली संकट से इंडस्ट्री का प्रोडक्शन प्रभावित, दूसरे राज्याें का रुख करने लगे ग्राहक

Electricity Crisis In Punjab बिजली संकट से ज्यादा असर आटो पार्ट्स मशीन टूल्स हैंड टूल्स कंपनियों पर है। कुछ दिन हालात यही रहे तो उद्योग किसी भी तैयार माल की डिलीवरी देने में असक्षम हो जाएंगे। इससे पंजाब से काफी कारोबार दूसरे राज्यों की ओर पलायन कर सकते हैं।

Vipin KumarSun, 11 Jul 2021 12:24 PM (IST)
इंडस्ट्री पर मंदी के बादल मंडराने लगे हैं। (सांकेतिक तस्वीर)

लुधियाना, [मुनीश शर्मा]। Electricity Crisis In Punjab: पंजाब सरकार की ओर से बिजली संकट को लेकर राहत के बजाय लगातार इसमें बढ़ोतरी किए जाने से इंडस्ट्री पर मंदी के बादल मंडराने लगे हैं। कई दिनों से प्रोडक्शन प्रभावित होने से अब उत्पादन के साथ-साथ स्टाॅक समाप्त होने से डिस्पैचिंग पर भी असर पड़ने लगा है। अब इंडस्ट्री मांग के मुताबिक डिस्पैचिंग नहीं कर पा रही है। ऐसे में कई मल्टीनेशनल कंपनियों की मांग पूरी न होने पर उन्होंने पंजाब की कंपनियों को छोड़ दूसरे राज्यों का रुख करना शुरू कर दिया है।

सबसे ज्यादा असर आटो पार्ट्स, मशीन टूल्स, हैंड टूल्स कंपनियों पर है। कुछ दिन हालात यही रहे तो पंजाब के उद्योग किसी भी तैयार माल की डिलीवरी देने में असक्षम हो जाएंगे। इससे पंजाब से काफी कारोबार दूसरे राज्यों की ओर पलायन कर सकते हैं। इसको लेकर उद्यमी भी चिंतित हैं।

प्रोडक्शन करने में असमर्थ होती जा रही है इंडस्ट्री

इंडस्ट्री अब प्रोडक्शन करने के लिए असमर्थ होती जा रही है, ऐसे में कई कंपनियों की ओर से दूसरे राज्यों की ओर अपने आर्डर तब्दील किए जा रहे हैं। अगर समस्या का हल न हुआ, तो पंजाब उद्योग को कई मल्टीनेशनल कंपनियों के आर्डरों से हाथ धोना पड़ेगा।

इंडस्ट्री के लिए कठिन समय

ऐसे हालातों में इंडस्ट्री के लिए काम करना बेहद मुश्किल हैं, रोजाना कट को कम करने के बजाय इसमें बढ़ोतरी की जा रही है। इस स्थिति में इंडस्ट्री कैसे आगे बढ़ पाएगी। सरकार पांच रुपये बिजली देने की बात कह रही थी, लेकिन बिजली ही नहीं मिल पा रही। - पंकज शर्मा, एमडी, ओशा टूल प्राइवेट लिमिटेड

एक्सपोर्ट आर्डरों पर लगने लगी पेनल्टी

एक्सपोर्ट के आर्डर समय पर नहीं जा पा रहे। ऐसे में इंडस्ट्री को अब इसके लिए पैनल्टी देनी पड़ रही है। इसके साथ ही कंपनियां दूसरे देशों की ओर रुख कर रही हैं, जोकि पंजाब उद्योगों के लिए खतरे की घंटी है। - जेएस भोगल, एमडी, फार्म पार्ट्स

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.