दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

लुधियाना के हंबड़ा में किसानों ने दुकानें खुलवाने के लिए किया प्रदर्शन, सरकार के खिलाफ नारेबाजी

लुधियाना के हंबड़ा में किसानों ने प्रदर्शन किया।

लुधियाना के हंबड़ा में किसानों ने दुकानें खुलवाने के लिए रोष प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग की सभी दुकानदारों की दुकानें रोज सुबह 8 बजे से रात 9 बजे तक खुलवाएं। अगर सरकार को लाकडाउन लगाना है तो वह मजदूरों और मध्यम वर्गीय दुकानदारों के खर्च की व्यवस्था करें।

Vinay KumarSat, 08 May 2021 12:58 PM (IST)

लुधियाना, जेएनएन। लुधियाना के गांव हंबड़ा में भारतीय किसान यूनियन एकता, नौजवान भारत सभा, टेक्निकल सर्विस यूनियन व अन्य किसान संगठनों ने सरकार द्वारा लगाए गए लाकडाउन के दौरान बंद पड़ी सभी दुकानें खुलवाने के लिए रोष प्रदर्शन किया गया। उन्होंने प्रशासन से मांग की थी कि सभी दुकानदारों की दुकानें रोज सुबह 8 बजे से रात 9 बजे तक खुलवाएं। इस मौके पर किसान नेता सुखविंदर सिंह बबलू, शमशेर सिंह, नौजवान सभा के ऋषि ने बताया कि लाकडाउन के कारण बहुत से गरीब परिवार अपनी रोजी-रोटी नहीं चला पा रहे हैं। अगर सरकार को लाकडाउन लगाना है तो वह मजदूरों और मध्यम वर्गीय दुकानदारों के खर्च की व्यवस्था करें।

उन्होंने कहा कि अगर सरकार इनकी व्यवस्था नहीं करती तो सोमवार से किसान मजदूर एकता और सभी जत्थे बंदियों द्वारा पूर्ण रूप से दुकानें खुलवाई जाएंगी और प्रशासन से मांग की गरीब लोगों का किसी प्रकार का कोई भी चालान ना किया जाए।

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस भी हरकत में आई और थाना लाडोवाल के एसएचओ मनदीप कौर साथ में हंबड़ा चौकी इंचार्ज हरपाल सिंह ने स्थिति पर काबू बनाए रखा और शांतिपूर्ण धरना समाप्त कराया। इस मौके पर पास के गांववालों और दुकानदारों ने धरने का समर्थन किया। इस मौके पर प्रमुख तौर पर मनदीप सिंह विर्क, चमकौर सिंह, परमजीत सिंह, अवतार सिंह, सुखविंदर सिंह, शिवकुमार बाबा, जोगिंदर यादव, संजय कुमार गुप्ता, प्रभु नाथ गुप्ता, सत्येंद्र कुमार, अर्जुन गुप्ता और भी बहुत से दुकानदार मौजूद थे।

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.