पीआरटीसी व पंजाब रोडवेज की आमदनी रोजाना 1.05 करोड़ हुई : राजा वड़िग

पंजाब के परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिं़ग का दावा है कि टैक्स चोरी पर लगाम लगाने अवैध गतिविधियों पर नकेल कसने व बिना परमिट आपरेटरों के खिलाफ सख्ती करने के बाद पीआरटीसी एवं पंजाब रोडवेज की रोजाना आमदनी 1.05 करोड़ रुपये हो गई है।

JagranThu, 02 Dec 2021 08:02 PM (IST)
पीआरटीसी व पंजाब रोडवेज की आमदनी रोजाना 1.05 करोड़ हुई : राजा वड़िग

जासं, लुधियाना : पंजाब के परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिं़ग का दावा है कि टैक्स चोरी पर लगाम लगाने, अवैध गतिविधियों पर नकेल कसने व बिना परमिट आपरेटरों के खिलाफ सख्ती करने के बाद पीआरटीसी एवं पंजाब रोडवेज की रोजाना आमदनी 1.05 करोड़ रुपये हो गई है। आमदनी बढ़ने से अब आसानी से नई बसें खरीद कर युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा सकता है। राजा वड़िग वीरवार को रायकोट में 'खुली चर्चा राजा वड़िग के साथ' कार्यक्रम में युवाओं के रूबरू थे। कार्यक्रम में लुधियाना देहाती के प्रधान करणजीत सिंह सोनी गालिब भी खासतौर पर मौजूद रहे।

राजा वडिं़ग ने कहा कि जब से सूबे में चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार बनी है, तभी से लोगों को पारदर्शी प्रशासन मुहैया कराया जा रहा है। राज्य सरकार लोगों के हित में लगातार फैसले ले रही है। पूर्व सीएम कैप्टन अमरिदर सिंह व शिअद प्रधान सुखबीर बादल पर कटाक्ष करते हुए वड़िग ने कहा कि दोनों ही एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं। दोनों ने सूबे के हित भाजपा को बेच दिए हैं। वड़िग ने कहा कि वे लंबे वक्त से पार्टी प्लेटफार्म पर इस मुद्दे को उठा रहे हैं। वड़िग ने आरोप लगाया कि सूबे के ट्रांसपोर्ट विभाग में साढ़े 14 साल, दस साल शिअद एवं साढ़े चार साल कैप्टन अमरिदर सिंह की सरकार के दौरान 6600 करोड़ रुपये का घपला हुआ। अब विशेष जांच टीम बनाकर इसकी गहन छानबीन की जाएगी। जांच में आरोपित पाए जाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

वड़िग ने कहा कि रोजाना 1.05 करोड़ की आमदनी से सूबा हर माह करीब नब्बे बसें एवं सालाना एक हजार बसें और पांच साल में 5500 बसें खरीद सकता है। साफ है कि परिवहन विभाग अकेले ही कम से कम 12 हजार युवाओं को रोजगार दे सकता है। इस अवसर पर कामिल बोपाराय, पार्षद कमलजीत वर्मा, राजिदर सिंह, गुरदास मान, गुरदयाल सिंह, सुरजीत सिंह समेत कई लोग मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.