चार हलकों में उम्मीदवार बदलने पर मंथन कर रही कांग्रेस, स्थानीय चेहरों पर दांव की तैयारी

जिले की 14 विधानसभा सीटों में से 12 पर शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं। वहीं उम्मीदवारों की घोषणा में सत्ताधारी कांग्रेस ने अब तक शुरुआत भी नहीं की है।

JagranFri, 03 Dec 2021 01:18 AM (IST)
चार हलकों में उम्मीदवार बदलने पर मंथन कर रही कांग्रेस, स्थानीय चेहरों पर दांव की तैयारी

भूपेंदर सिंह भाटिया, लुधियाना : जिले की 14 विधानसभा सीटों में से 12 पर शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं। वहीं, उम्मीदवारों की घोषणा में सत्ताधारी कांग्रेस ने अब तक शुरुआत भी नहीं की है। माना जा रहा है कि चार विधानसभा सीटों पर इस बार उम्मीदवार बदलने के लिए पार्टी में अंदरखाते मंथन हो रहा है। इसमें लुधियाना दक्षिण, लुधियाना उत्तरी, दाखा और साहनेवाल की सीटें शामिल हैं। फिलहाल इनमें से सिर्फ एक सीट लुधियाना नार्थ कांग्रेस के पास है। अन्य तीन में से दो शिअद और एक लोक इंसाफ पार्टी के पास है।

सबसे ज्यादा घमासान लुधियाना नार्थ की सीट को लेकर है। यहां से राकेश पांडे छह बार जीत दर्ज कर चुके हैं। इसके अलावा दाखा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह के कभी करीबी रहे कैप्टन संदीप सिंह को भी बदलने पर विचार किया जा रहा है। लुधियाना साउथ : स्थानीय चेहरे का उतारने की सोच

लुधियाना साउथ से भी कांग्रेस इस बार स्थानीय चेहरा उतारने की सोच रही है। पिछले चुनाव में यहां से पैराशूट उम्मीदवार के रूप में एनआरआइ भूपिदर सिंह सिद्धू को उतारा था। उन्हें 30 हजार 917 मतों से करारी हार का सामना करना पड़ा था। हालांकि इस सीट से कई दावेदार हैं लेकिन जरनैल सिंह शिमलापुरी और गुरप्रीत गोगी को टिकट की रेस में आगे माना जा रहा है। जरनैल सिंह लुधियाना की वर्तमान डिप्टी मेयर सरबजीत कौर के पति हैं और लंबे समय से पार्टी में सक्रिय हैं। गुरप्रीत गोगी भी अनुभवी और वरिष्ठ नेता हैं। वह चार बार पार्षद रहे और पांच साल जिला प्रधान भी रहे। पिछले चुनाव में भी उन्हें टिकट मिलते मिलते रह गई थी।

दाखा : पैराशूटी या स्थानीय कांग्रेसी को लेकर पशोपेश

दाखा सीट पर भी उम्मीदवार बदलने पर कांग्रेस में मंथन किया जा रहा है। पिछले उपचुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह के कभी करीबी रहे कैप्टन संदीप संधू को मैदान में उतारा गया था। सत्ता में होने के बावजूद कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा था और शिअद के मनप्रीत अयाली ने जीत दर्ज की थी। हालांकि हार के बावजूद कैप्टन संधू लगातार हलके में सक्रिय हैं लेकिन इस बार कांग्रेस स्थानीय चेहरे को मौका देने पर मंथन कर रही है। कैप्टन संधू के साथ मेजर सिंह भैणी और मलकीयत सिंह दाखा के नाम चर्चा में हैं।

साहनेवाल : सतविंदर बिट्टी की जगह लोकल पर नजर

कांग्रेस के प्रदेश प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू की नजर में साहनेवाल सीट भी महत्वपूर्ण है। यहां से शिअद के अनुभवी और विधानसभा में शिअद के नेता शरणजीत सिंह ढिल्लों लगातार पिछले दो चुनाव जीत चुके हैं। पिछली बार उन्होंने कांग्रेस की सतविदर कौर बिट्टी को 9501 मतों से हरा दिया था। वर्ष 2017 चुनाव में जिले में शिअद को सिर्फ इसी सीट से जीत हासिल हुई थी। इस बार यहां से पूर्व मुख्यमंत्री राजिदर कौर भट्ठल के जमाई बिक्रम बाजवा और पाल सिंह का नाम आगे आ रहा है।

---

लुधियाना नार्थ : छह बार जीत चुके हैं राकेश पांडे फिर भी बदलाव की चर्चा

लुधियाना नार्थ सीट पर भी इस बार उम्मीदवार बदलने पर मंथन किया जा रहा है। वैसे तो इस सीट पर कांग्रेस के राकेश पांडे ने छह बार जीत दर्ज कर चुके हैं। 2017 में भी राकेश पांडे की टिकट कटने की चर्चा हुई थी लेकिन दिल्ली दरबार में पहुंच होने के कारण वह टिकट पाने में सफल हुए थे। इस सीट से कांग्रेस के जिला प्रधान अश्वनी शर्मा भी दौड़ में हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.