बठिंडा में 2017 व 2019 में चुनाव ड्यूटी करने वाले अधिकारियों को नहीं मिले 1.80 करोड़

चुनावों में ड्यूटी करने वाले अधिकारियों का इलेक्शन ड्यूटी चार्ज करीब 1.80 करोड़ रुपये बकाया है।

चुनावों में ड्यूटी करने वाले अधिकारियों का इलेक्शन ड्यूटी चार्ज करीब 1.80 करोड़ रुपये बकाया है। अब फिर चुनाव आ गए हैं और अधिकारियों के जिले से तबादले भी हो गए हैं। मगर उनको पिछला मेहनताना कब मिलेगा इस बारे में कोई स्थिति स्पष्ट नहीं है।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 12:16 PM (IST) Author: Rohit Kumar

बठिंडा, साहिल गर्ग। चुनावों में ड्यूटी करने वाले अधिकारियों का इलेक्शन ड्यूटी चार्ज करीब 1.80 करोड़ रुपये बकाया है। अब फिर चुनाव आ गए हैं और अधिकारियों के जिले से तबादले भी हो गए हैं। मगर उनको पिछला मेहनताना कब मिलेगा, इस बारे में कोई स्थिति स्पष्ट नहीं है। लोकसभा चुनाव हुए पौने दो साल हो गए हैं तो विधानसभा चुनाव को चार साल। अब तीसरे निकाय चुनाव करवाने की तैयारी है। बठिंडा जिले में दोनों चुनावों का 1.80 करोड़ रुपये का बकाया पड़ा है। इसमें विभिन्न कर्मचारियों के अलावा ए ग्रेड के अफसरों की ड्यूटी लगाई गई थी। जिनको सरकार की ओर से अपने वेतन के साथ साथ अतिरिक्त मेहनताना चुनाव करवाने के लिए देना होता है।

पंजाब विधानसभा चुनाव 2017 व लोकसभा चुनाव 2019 में ड्यूटी करने वाले स्टाफ को किसी भी प्रकार का इलेक्शन ड्यूटी का भुगतान नहीं मिला है। इसमें शामिल कर्मचारियों के अलावा गजटेड पोस्ट पर तैनात अफसरों समेत 750 स्टाफ मेंबरों की विभिन्न प्रकार की 12 कैटेगरियों में ड्यूटी लगाई गई थी। जिले में दोनों चुनावों का 1.80 करोड़ का बकाया सरकार की तरफ पेडिंग है, जो अब सरकार पर निर्भर करता है कि इसको जारी किया जाना है या नहीं। इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि स्टाफ ने ड्यूटी के दौरान ही काम किया है।

इसके तहत अलग-अलग अधिकारियों व मुलाजिमों को उनके ग्रेड के हिसाब से 1 से 12 नंबर की कैटेगरी में डिवाइड किया गया था। इसके बारे में अतिरिक्ति जिला चुनाव अधिकारी परमवीर सिंह का कहना है कि चुनावों में ड्यूटी करने वाले अधिकारियों को सरकार की तरफ से ही मेहनताना दिया जाता है, जो सरकार पर निर्भर करता है। यह ड्यूटी अधिकारी अपने काम के साथ साथ करते है।

सरकार के पास पड़ा बकाया

2017 के चुनावों में 6 विधानसभा हलकों में ड्यूटी करने वाले एआरओ स्टाफ के 258 लोगों के 1861500, सर्विलेंस टीम के 60 लोगों के 637200, फ्लाइंग स्क्वायड टीम के 54 सदस्यों के 597600, वीडियो सर्विलेंस टीम के 54 सदस्यों के 596400, अकाउंङ्क्षटग टीम के 42 सदस्यों के 388800, मीडिया व्यूअर्स टीम के 12 सदस्यों के 136800, सेक्टर ऑफिसर व सेक्टर मजिस्ट्रेट के 108 सदस्यो के 1350000, मास्टर ट्रेनर के 24 सदस्यों के 255600 व शिकायत व एमसीसी सैल के 72 मेंबरों के 818100 रुपए बकाया हैं। इसके अलावा सबसे अहम कैटेगरी, जिसमें आरओ शामिल है। इसके साथ कैटेगरी 5 के 90 अफसरों व कर्मचारियों के 2237586 रुपए बकाया हैं। इसी प्रकार इतने ही पैसे इनके 2019 के चुनावों के भी बकाया हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.