PM Care for Children Scheme: कोरोना महामारी में अनाथ बच्चों के डाकघराें में खुल रहे है खाते, जानें याेजना

PM Care for Children Scheme कोरोना महामारी ने कई परिवारों को उजाड़ कर रख दिया था। इस महामारी के कारण के सैकडों बच्चे अनाथ हो गए है। कोविड-19 की महामारी के दौरान अनाथ हुए बच्चों की नब्ज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पकड़ी ली है।

Vipin KumarSat, 20 Nov 2021 04:23 PM (IST)
पीएम केयर फाॅर चिल्ड्रन स्कीम तहत बच्चों के खातों में पाए जाऐंगे पैसे। (सांकेतिक तस्वीर)

जगराओं, (लुधियाना) बिंदु उप्पल। PM Care for Children Scheme: कोरोना महामारी ने कई परिवारों को उजाड़ कर रख दिया था। इस महामारी के कारण के सैकडों बच्चे अनाथ हो गए है। कोविड-19 की महामारी के दौरान अनाथ हुए बच्चों की नब्ज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पकड़ी ली है। इसके तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिशा निर्देशों पर अब सभी डाकघराें में उन अनाथ बच्चाें के खाते खोले जा रहे है। जिसमें पीए केयर फार चिल्डर्न स्कीम तहत खाते खोले जा रहे है। यह जानकारी महिला बाल विकास अफसर इंद्रप्रीत कौर ने दी।

उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान जो बच्चे अनाथ हुए उनके पालन पोषण, जीवन बीमा व शिक्षा सुविधा को लेकर पीएम केयर फाॅर चिल्डर्न स्कीम तहत खाते खोले जा रहे है। इस संबंध जिला लुधियाना के हेड पोस्ट आफिस भारत नगर चौक के डिप्टी पोस्ट मास्टर निरोत्तम कुमार ने बताया कि डाकखाने में जीरो बैलेंस पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन स्कीम तक खाते खोले जाएंगे, जिसमें बच्चे के गार्डियन के नाम पर जिलाधीश का नाम लिखा जाएगा। इस स्कीम तक बच्चों को जीरो से 23 वर्ष तक सरकार की ओर पालन पोषण के भत्ते केंद्र व राज्य सरकार की स्कीमों तहत भत्ते दिए जाएंगे और जो बच्चे अनाथ हुए है और उनकी उम्र 23 वर्ष से अधिक हो जाए तो पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन स्कीम के 10 लाख रुपये खाते में डाले जाएंगे।

इस संबंधी जिला लुधियाना के सोशल सिक्योरिटी एडं वूमेन एडं चाइल्ड डेवलपमेंट की इस स्कीम की प्रोजेक्ट को-आर्डिनेटर रश्मी ने बताया कि जिला सेहत विभाग की ओर से इस स्कीम तहत बहुत सी अर्जियां आई थी जिसकी जांच के बाद अभी 3 केस ऐसे सामने आए है जिनको पीएम केयर फार चिल्ड्रन स्कीम तहत डाकखानों में खाते खोले जाएंगे।

इस संबंधी सोशल सिक्योरिटी एडं वूमेन एडं चाइल्ड डेवलपमेंट चंडीगढ़ विभाग के अधिकारी शैली ने बताया कि उनके पास कोरोना महामारी दौरान जिन बच्चों के माता-पिता दोनों की मौत कोरोना संक्रमित होने के कारण हुई है उसमें जीरो से 18 वर्ष की उम्र के जालंधर,गुरदासपुर,पठानकोट,होशियारपुर व पटियाला सहित अन्य जिलों से 35 केस आए है और 18 से 21 वर्ष की उम्र के ग्रुप में 10 केस आए है जिनके डाकखानाें में जीरो बैलेंस खाते  पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन स्कीम तहत डाकखानों में खोले जाएंगे।

उन्होंने बताया कि अगर अभी भी कोई कोरोना महामारी दौरान अनाथ हुए बच्चे इस प्रकार की स्कीम का फायदा लेने ,फार्म भरने से वंचित हो गए है वो पहले अपने-अपने जिलों के सोशल सिक्योरिटी एडं वूमेन एडं चाइल्ड डेवलपमेंट से संपर्क कर जानकारी जुटा सकते है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.