टीकाकरण से ही कोरोना संक्रमण से बचाव संभव

आरसीएफ में कोरोना से बचाव के लिए नियमों का पालन किया जा रहा है।

JagranTue, 14 Sep 2021 10:47 PM (IST)
टीकाकरण से ही कोरोना संक्रमण से बचाव संभव

जागरण संवाददाता, कपूरथला : पिछले साल के आकड़ों व लक्षणों के आधार पर अगले माह कोरोना की संभावित तीसरी लहर के संकेत मिलने पर आरसीएफ वर्कशाप, प्रबंधकीय ब्लाक एवं रेडिका कालोनी को अलर्ट कर दिया गया है। तीसरी लहर से बचने के लिए आरसीएफ में एक बार फिर से मास्क व शारीरिक दूरी के नियम को अनिवार्य किया जाने लगा है। आरसीएफ में वैक्सीनेशन की रफ्तार में तेजी लाई जा रही है।

आरसीएफ के महाप्रबंधक रवींद्र गुप्ता ने दैनिक जागरण के प्रतिनिधि से बातचीत के दौरान बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर निपटने के लिए वैक्सीनेशन ही एक मात्र हल है। आसीएफ में वैक्सीन का कार्य भी लगभग 75 फीसदी मुकम्मल हो चुका है। आरसीएफ में करीब 6700 कर्मचारी है, जिनमें 5850 से 6000 तक को वैक्सीन लग चुकी है। इनमें 3394 को दूसरी डोज भी लग चुकी है। आरसीएफ कालोनी में लगभग 12760 परिवार है जिनमें से 7500 को पहली डोज और 6696 को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज से कवर किया जा चुका है।

आरसीएफ में मास्क पहनने को लेकर एक बार फिर से सख्ती से पालन करना शुरू कर दिया गया है। घरों व कम्यूनिटी स्थलों पर कार्यक्रमों में ज्यादा लोगों के इक्टठे होने से भी परहेज करना होगा। तीसरी लहर से निपटने के लिए हम सभी को पहले ही जागरुक होना पड़ेगा।

उन्होंने कहा किकोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों ही टीके बेहद कारगर सिद्ध हुए है। कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले लोग 97.5 फीसद से अधिक सुरक्षित हो जाते है।

उन्होंने बताया कि आरसीएफ में 700-800 लोग बचे है. जिन्हें अभी वैक्सीन नही लगी है। इसके मद्देनजर कालोनी में रोजाना कैप लग रहे है और हर रोज दो जगह पर 150 से 200 लोगों को टीका लगता है।

जीएम ने आरसीएफ के लोगों से आह्वान किया कि 18 साल से छोटे बच्चों जिन्हें अभी वैक्सीन नही लगाई जा सकती। बच्चों के अलावा अन्य सभी लोग आगे आकर वैक्सीन लगवाएं। धीरे धीरे कोरोना के मामलों का बढना चिंता का विषय है। आरसीएफ में कोरोना से बचाव के लिए नियमों को सख्ती से लागू किया जा रहा है। पिछले कुछ दिनों दो-तीन नए केस आए हैं जिन्हें घरों में क्वारंटाइन किया गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.