वित्त कार्पोरेशन ने लाभपात्रियों को 36.75 लाख का ऋण मंजूरी पत्र बांटे

पंजाब अनुसूचित जाति भूमि विकास और वित्त कार्पोरेशन की तरफ से मंजूरी पत्र बांटे गए

JagranThu, 29 Jul 2021 06:09 PM (IST)
वित्त कार्पोरेशन ने लाभपात्रियों को 36.75 लाख का ऋण मंजूरी पत्र बांटे

संवाद सहयोगी, कपूरथला : पंजाब अनुसूचित जाति भूमि विकास और वित्त कार्पोरेशन की तरफ से अपनी गोल्डन जुबली मनाने के क्रम में ऋण वितरण समारोह करवाया गया। इस मौके पर संस्था के चेयरमैन मोहन लाल सूद की तरफ से जिला कपूरथला और जालंधर के लाभार्थियों को निगम की अलग-अलग योजनाओं के तहत 36.75 लाख रुपये के ऋण मंजूरी के पत्र बांटे गए।

चेयरमैन सूद की तरफ से राज कुमार निवासी बीसला जिला शहीद भगत सिंह नगर को मेडिकल की सहायता के लिए 25 हजार रुपये की सहायता के लिए मंजूरी पत्र दिया गया। उन्होनें बताया कि पंजाब के मुख्यमंत्री की तरफ से किए गए वादे के अनुसार सबसे पहले अनुसूचित वर्ग के कर्जदारों का 50 हजार रुपये के कर्ज माफ कर 14260 लाभार्थियों को 45.41 करोड़ रुपये की बड़ी राहत दी गई है।

उन्होंने यह भी बताया कि साल 2019 -20 के दौरान गुरु नानक देव जी महाराज के 550वें प्रकाश उत्सव को समर्पित 1779 लाभार्थियों को 15.35 करोड़ रुपये का कर्ज सब्सिडी सहित बांटा गया। उन्होनें बताया कि साल 2020-21 के दौरान कोरोना महामारी के दौरान लाकडाउन होने के बावजूद श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400 साला प्रकाश पर्व को समर्पित कर्ज वितरण अभियान के तहत 2116 लाभार्थियों को 22.94 करोड़ का कर्ज सब्सिडी सहित उपलब्ध करवा कर कमजोर तबके के व्यक्तियों के कारोबार को शुरू करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

उन्होनें बताया कि चालू वित्त वर्ष में निगम की स्थापना को गोल्डन जुबली मनाते हुए 6400 लाभपातरियों को 40 करोड़ रुपए का कर्ज और सब्सिडी बाटने का लक्ष्य रखा गया है।

इस अवसर पर जिला भलाई अधिकारी लखविन्दर सिंह, जिला मैनेजर कुलविन्दर सिंह जालंधर, अशोक कुमार कपूरथला और अन्य दफ्तरी स्टाफ मंजू, संदीप कुमार, महेंद्रपाल, चंद्रकला, परमिंदर कौर, गौरव और नरिंदर लाल आदि उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.