पराली जलाएं नहीं खेतों में मिलाएं किसान : डीसी

डीसी दीप्ति उप्पल ने जिला प्रशासनिक कांप्लेक्स में अधिकारियों के साथ बैठक की।

JagranWed, 15 Sep 2021 06:05 PM (IST)
पराली जलाएं नहीं खेतों में मिलाएं किसान : डीसी

संवाद सहयोगी, कपूरथला : डीसी दीप्ति उप्पल ने बुधवार को किसानों को पराली जलाने की बजाए उसका मशीनरी से खेतों में ही मिलाने करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पराली जलाने से पैदा होने वाले धुआं से आम लोगों विशेषकर कोविड-19 से जूझ रहे मरीजों की मुश्किलें बढ़ सकती है। जिला प्रशासनिक कांप्लेक्स में आयोजित अलग-अलग विभाग के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक के दौरान डीसी ने कहा कि जिले में सुपर सिडर, मलचर, आरएमबी पलोय, हैपी सिडर, सुपर एसएमएस सहित लगभग 3361 मशीनें उपलब्ध है, जिनको आई -खेत एप की मदद से देखा जा सकता है। डिप्टी कमिश्नर ने कृषि, सहकारिता विभाग, सहकारी सभाओं, किसान समूह और पंचायतों को कहा कि वह मशीनों के पूर्ण उपयोग को यकीनी बनाए। उन्होंने कस्टमर हायरिग सेंटर को छोटे और सीमांत किसानों से फसलों के अवशेषों के प्रबंधन के लिए ली गई मशीनरी का किराया न लेने के आदेश भी दिए।

उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों से कहा कि वह बेलर के साथ पराली को एकत्रित करके बुआइलर में इस्तेमाल संबंधी बेलर मालिकों से संबंध रखे। जिले में 11 इस तरह के बेलरों के द्वारा बड़े स्तर पर पराली की गांठे तैयार करके उनको ़िफरो•ापुर में ब्वाइलर में ईंधन के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने अधिकारियों से खेतों में आग लगने की घटनाओं पर नजर रखने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि एसडीएम सभी कंबाइन, सुपर एसएमएस तकनीक से लैस होने को यकीनी बनाए और इन निर्देशों की पालन नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। इस मौके पर एडीसी जनरल आदित्या उप्पल, खेती, सहकारिता ग्रामीण विकास पर पंचायत विभाग, मंडी बोर्ड, पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.