हेरोइन के केस से बाहर निकालने के लिए 25 हजार की रिश्वत लेते एएसआइ व नंबरदार काबू

हेरोइन के केस से बाहर निकालने के लिए 25 हजार की रिश्वत लेते एएसआइ व नंबरदार काबू

युवक को हेरोइन के केस से बाहर निकालने के बदले 1.10 लाख में सौदा करने वाले पुलिस के एक एएसआइ व नंबरदार को जालंधर की विजिलेंस टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार किया है

JagranFri, 26 Feb 2021 01:33 AM (IST)

संवाद सहयोगी, कपूरथला

युवक को हेरोइन के केस से बाहर निकालने के बदले 1.10 लाख में सौदा करने वाले पुलिस के एक एएसआइ व नंबरदार को जालंधर की विजिलेंस टीम ने रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। आरोपित एएसआइ 85 हजार रुपये ले चुका है। युवक के परिजनों ने ब्याज पर रूपये लेकर रिश्वत के पैसे दिए थे।

विजीलेंस ब्यूरो जालंधर के एसएसपी दलजिदर सिंह ढिल्लों ने बताया कि गांव नाहरपुर निवासी बिक्रमजीत सिंह ने एएसआइ विजय कुमार व सुखजिदर सिंह नंबरदार के खिलाफ शिकायत की थी। जनता स्कूल करतारपुर में 12वीं कक्षा का विद्यार्थी का छोटा भाई बलबीर सिंह जगजीत इंडस्ट्री हमीरा में नौकरी करता है। चार फरवरी 2021 को वह मोटर साइकिल पर दयालपुर फाटक के नजदीक बाइक पर सवार होकर जा रहा था। एएसआइ विजय कुमार ने बलबीर सिंह को गांव दयालपुर के फाटक के न•ादीक सफेद पाउडर के आधार पर गिरफ्तार कर लिया था। गिरफ्तार करने के बाद एएसआइ विजय कुमार पुलिस पार्टी के साथ उसके घर गया। घर में कोई बड़ा व्यक्ति न होने के कारण बलबीर को व मोटर साइकिल तथा उसके मोबाइल समेत बिधीपुर पुलिस नाके पर ले गए। एएसआइ विजय कुमार उसके घर मैसेज दे गया कि उसे बिधीपुर फाटक पर आकर मिल ले। शिकायतकर्ता के दादा बलकार सिंह, चाचा सरबजीत सिंह एवं गांव बूटा से पंच शीरा को साथ लेकर बिधीपुर फाटक नाके पर एएसआई विजय कुमार से मिले और कहा कि वह नशा नहीं करता है। एएसआइ ने कहा कि लड़के को छोड़ कर उसके पिता इच्छर सिंह खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर देते हैं। इसके बदले दो लाख देने पड़ेंगे और बलबीर सिंह को छोड़ दिया लेकिन उसका मोटर साइकिल व मोबाइल अपने पास रख लिया। उसने धमकी दी कि यदि रुपये न दिए तो बलबीर सिंह को मुकद्दमे में नाम•ाद कर देंगे। पिता इच्छर सिंह को वहा बुला कर उसके खिलाफ हेरोइन का मुकद्दमा दर्ज कर दिया। दूसरे दिन उनके गांव के नंबरदार सुखजिदर सिंह ने शिकायतकर्ता के घर आकर कहा कि उसे एएसआइ ने भेजा है, जिस पर उनका 1 लाख 10 ह•ार रुपए में मसला हल करवाने की बात तय हो गई देगा। रुपये न मिले तो बलबीर का नाम केस में शामिल कर देगा। इस पर शिकायतकर्ता व उसके भाई डर गए। नंबरदार सुखजिदर सिंह को विभिन्न तिथियों को एएसआइ विजय कुमार को रिश्वत देने के लिए 85000 रुपए दे दिया। ये रुपये उन्होंने ब्याज पर लेकर दिया। 17 फरवरी नंबरदार सुखजिदर सिंह साथ एएसआई विजय कुमार से मोटरसाइकिल व मोबाइल वापस लेने गए तो नंबरदार सुखजिदर सिंह ने कहा कि पहले बकाया 25 हजार मांगे। इसके बाद दोनों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.