top menutop menutop menu

स्वच्छ भारत की बदली तस्वीर को कैनवास पर उतारेंगे विद्यार्थी

स्वच्छ भारत की बदली तस्वीर को कैनवास पर उतारेंगे विद्यार्थी
Publish Date:Fri, 14 Aug 2020 05:58 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, जालंधर : बच्चों के जरिए अब स्वच्छता का संदेश देश के हर कोने और घर-घर तक पहुंचेगा। बच्चे पेंटिग से स्वच्छ भारत की बदलती तस्वीर और निबंध में विचारों के जरिए अपने भाव व्यक्त कर सकेंगे। एमएचआरडी की तरफ से गंदगी मुक्त भारत अभियान को मुख्य रखकर राष्ट्रीय स्तर की यह प्रतियोगिता ऑनलाइन ही होगी। इसके टॉप थ्री विजेताओं की दो अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर घोषणा की जाएगी।

इस प्रतियोगिता में देश के सभी राज्य और केंद्र शासित राज्यों के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं और प्रत्येक राज्य से पेंटिग और निबंध की बेहतर तीन-तीन एंट्रीज को ही स्वीकार किया जाएगा। इसमें छठी से बारहवीं तक के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं। छठी से आठवीं तक के बच्चों में पेंटिग और नौवीं से बारहवीं के बच्चे निबंध प्रतियोगिता में भाग लेंगे।

विभाग ने शुरू की कंपीटिशन की तैयारी

शिक्षा विभाग की तरफ से गंदगी मुक्त मेरा गांव के तहत वीरवार से प्रतियोगिता की शुरुआत कर दी गई। डायरेक्टोरेट ने इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी कर दिए हैं कि वे जल्द से जल्द अपने-अपने जिलों में कंपीटिशन करके विजेताओं की एंट्रीज भेजें। ताकि विभाग की तरफ से राज्य स्तर पर बेस्ट तीन पेंटिग और बेस्ट तीन निबंध चुनकर भेजे जा सकेंगे। विभाग की ज्यूरी प्रत्येक जिले से प्राप्त होने वाली तीन-तीन एंट्रीज को परखकर राज्य स्तर की तीन बेस्ट पेंटिग और निबंधन को निकाल कर राष्ट्र स्तर पर भेजेंगे।

अध्यापक टीचिग को तस्वीरों से खास बनाएं

जासं, जालंधर : केएमवी ने ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय कॉन्क्लेव के तीसरे दिन ओमान की यूनिफर्सिटी दोफार के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. विजय सिंह ने अध्यापन की विधियो संबंधी अपने विचार रखे। उन्होंने बताया कि कैसे अध्यापक क्लास रूम टीचिग को कार्टून और तस्वीरों के इस्तेमाल से विद्यार्थियों के लिए और दिलचस्प बना सकते हैं। ऐसी विधिया विद्यार्थियों के अंदर कुछ नया सीखने के लिए सोच और दिलचस्पी पैदा करने में मददगार साबित होती है। प्रिसिपल प्रो. अतिमा शर्मा ने सभी का स्वागत किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.