जालंधर के करतारपुर में ‘सत्याग्रह से स्वच्छग्रह’ रथयात्रा का शुभारंभ, विधायक चौधरी ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

जालंधर के करतारपुर से विधायक चौधरी सुरिंदर सिंह ने बुधवार को जल सप्लाई और सैनिटेशन विभाग की तरफ से जंग-ए-आजादी मेमोरियल करतारपुर से खटकड़ कलां मेमोरियल एसबीएस नगर तक ‘सत्याग्रह से स्वच्छग्रह’ रथयात्र की शुरुआत की। रथयात्रा से 80-100 गांवों को कवर किया जाएगा।

Vinay KumarThu, 16 Sep 2021 10:53 AM (IST)
जंग-ए-आजादी यादगार करतारपुर से ’सत्याग्रह से स्वच्छग्रह’ रथयात्रा को झंडी देकर रवाना करते हुए विधायक सुरेंद्र सिंह चौधरी व अन्य।

संवाद सहयोगी, करतारपुर। जालंधर के करतारपुर से विधायक चौधरी सुरिंदर सिंह ने बुधवार को जल सप्लाई और सैनिटेशन विभाग की तरफ से जंग-ए-आजादी मेमोरियल, करतारपुर से खटकड़ कलां मेमोरियल एसबीएस नगर तक ‘सत्याग्रह से स्वच्छग्रह’ रथयात्र की शुरुआत की। आजादी की 75वीं वर्षगांठ को समर्पित मनाए जा रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ अभियान के अंतर्गत करवाए गए समागम में विधायक चौधरी ने कहा कि हम बहुत भाग्यशाली है कि यह रथयात्र जंग-ए-आजादी यादगार करतारपुर से शुरू की गई है। इसकी ऐतिहासिक महत्ता है। उन्होंने कहा कि यह रथयात्र ग्रामीण लोगों में जागरूकता फैलाने में सहायक साबित होगी।

इस मौके पर परनीत शेरगिल ने बताया कि रथयात्र में मुख्य तौर पर तीन जिले जालंधर, कपूरथला और एसबीएस नगर के लगभग 80-100 गांवों को कवर किया जाएगा। इससे पहले मुख्य मेहमान का स्वागत करते हुए मुख्य इंजीनियर कुलदीप सिंह सैनी ने कार्यक्रम के अधीन करवाई जाने वाली गतिविधियों के बारे में बताया। इस अवसर पर परनीत शेरगिल, करनजीत सिंह, जसप्रीत सिंह कुलदीप सिंह सैनी, आरके शर्मा, बलबीर राज सिंह, एनपी सिंह, जालंधर से कार्यकारी इंजीनियर नितिन कालिया, हरिंदर सिंह, सुखपिंदर सिंह, कपूरथला से गुरप्रीत सिंह सैनी, सरबजीत सिंह, गगनदीप वालिया, जेई चरनप्रीत सिंह और रोहित भी मौजूद थे।

कष्ट निवारण बालाजी मंदिर से आज विसर्जित किए जाएंगे बप्पा

जालंधर : गणपति उत्सव कमेटी रास्ता मोहल्ला की तरफ से 8वां श्री गणपति उत्सव जारी है। संस्था के मुख्य सेवादार विकास तलवाड़ की अध्यक्षता में आयोजित उत्सव के दौरान बुधवार को श्री कष्ट निवारण बाला जी मंदिर बाजार शेखां के संस्थापक व संचालक रमन अरोड़ा ने हाजिरी लगाई। रमन अरोड़ा ‘तेरा सुंदर सजा दरबार, मेरे गणपति महाराज’ सहित कई मनमोहक भजन प्रस्तुत किए, जिन पर श्रद्धालु मंत्रमुग्ध होकर झूम उठे। विकास तलवाड़ ने कहा कि 16 सितंबर को गणपति महाराज की प्रतिमा ब्यास नदी में सुबह 11 बजे विसर्जित की जाएगी। इससे पूर्व शोभायात्र के रूप में भगवान की प्रतिमा रवाना की जाएगी।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.