पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष सिद्धू विवाद में फंसे, SGPC प्रधान ने कहा- साथियों संग गुरुघर की मर्यादा का किया उल्लंघन

पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू फिर विवाद में फंस गए हैंं। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की प्रधान जगीर कौर ने सिद्धू पर साथियों के साथ गुरुद्वारा फतेहगढ़ साहिब में गुरुघर की मर्यादा के उल्‍लंघन का आरोप लगाया है।

Sunil Kumar JhaMon, 02 Aug 2021 08:40 AM (IST)
पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और एसजीपीसी अध्‍यक्ष बीबी जगीर कौर। (फाइल फोटो)

अमृतसर , जागरण संवादददात। पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू फिर विवाद में फंस गए हैं। उन पर फतेहगढ़ साहिब में गुरुघर की मर्यादा के उल्‍लंघन का आरोप लगा है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) की अध्यक्ष बीबी जगीर कौर ने नवजोत सिंह सिद्धू पर गुरुद्वारा फतेहगढ़ साहिब में माथा टेकने के दौरान मर्यादा के उल्लंघन के आरोप लगाए हैं।

बीबी जगीर कौर ने इसके साथ ही चेतावनी दी कि अगर भविष्य में नवजोत सिंह सिद्धू और उनके समर्थकों ने मर्यादा का ध्यान न रखा तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गुरुद्वारों में किसी भी कीमत पर सिख मर्यादा का उल्लंघन सहन नहीं किया जाएगा। सिद्धू के इस व्यवहार से सिखों के मन को गहरी ठेस पहुंची है।

कहा- क्लीन शेव युवक ने अपनी जेब से सिरोपा निकालकर सिद्धू को भेंट किया

जगीर कौर ने कहा कि संगत और बहुत ही जिम्मेवार लोगों की ओर से उन्हें सूचित करने के अलावा कुछ सीसीटीवी फुटेज और वीडियो भी भेजे गए हैं। इन वीडियो में स्पष्ट है कि मुख्य दरबार में मर्यादा के खिलाफ जाकर सिद्धू के एक क्लीन शेव समर्थक ने अपनी जेब से सिरोपा निकाल कर सिद्धू को भेंट किया। यह सिख परंपराओं के खिलाफ है।

कहा, गुरुद्वारा फतेहगढ साहिब में मर्यादा के उल्लंघन से सिखों को पहुंची ठेस

उन्होंने कहा कि अगर सिद्धू ने खुद को ऐसे ही सिरोपा भेंट करवाना था तो वह गुरुद्वारा परिसर से बाहर आकर इसे भेंट करवा सकते थे। गुरुद्वारा साहिब के अंदर एक क्लीन शेव व्यक्ति की ओर से अपनी जेब से सिरोपा निकालकर भेंट करना न केवल सिरोपा का अपमान है बल्कि परंपराओं का उल्लंघन है।

बीबी जगीर कौर ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू फतेहगढ़ साहिब में शहीदों की धरती पर गुरुद्वारा साहिब में माथा टेकने गए तो वहां पर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था इतनी कड़ी कर दी कि संगत को वहां माथा ही नहीं टेकने दिया गया। संगत को रोककर रखा गया। सिद्धू को साधारण श्रद्धालु की तरह ही माथा टेकने के लिए गुरुघर में आना चाहिए। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर भविष्य में सिद्धू या उसके किसी समर्थन ने किसी भी गुरुघर में मर्यादा का उल्लंघन किया तो सहन नहीं किया जाएगा।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.