जालंधर के डेरा सचखंड बल्लां पहुंचे नए CM चरणजीत सिंह चन्नी, संत निरंजन दास से लिया आशीर्वाद

मुख्यमंत्री पंजाब चरणजीत सिंह चन्नी के बुधवार को डेरा सचखंड बल्लां में नतमस्तक हुए। इससे पहले सीएम के स्वागत के लिए डेरे में तैयारियां शुरू हो गई हैं। स्थानीय पुलिस प्रशासन ने मुख्यमंत्री के आगमन को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है।

Pankaj DwivediWed, 22 Sep 2021 12:26 PM (IST)
डेरा सचखंड बल्लां में सीएम चरणजीत सिंह चन्नी संत निरंजन दास से आशीर्वाद लेते हुए।

संवाद सूत्र, जालंधर। पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के बुधवार को डेरा सचखंड बल्लां में नतमस्तक हुए। उन्होंने दोपहर करीब 1 बजे डेरे में पहुंच संत निरंजन दास का आशीर्वाद लिया। यहां उनके आगमन की सुबह से प्रतीक्षा की जा रही थी। इस मौके पर उनके साथ बड़ी संख्या में कांग्रेस के नेता मौजूद थे। सीएम चन्नी हेलिकाप्टर से जालंधर पहुंचे। उन्होंने अलावलपुर स्थित डीएवी यूनिवर्सिटी के हेलीपैड पर लैंडिग की थी। लौटते समय मुख्यमंत्री हेलिपैड के पास मौजूद छात्रों से भी मुलाकात की थी। इससे पहले सुबह अमृतसर पहुंचे सीएम चन्नी श्री हरमंदिर साहिब में भी नतमस्क हुए थे। तब उनके साथ पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद थे। 

बता दें कि पंजाब की सामाजिक-राजनीति ताने-बाने में डेरा सचखंड बल्लां का प्रमुख स्थान है। दोआबा में बड़ी संख्या में डेरे के अनुयायी हैं। चरणजीत सिंह चन्नी से पहले पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी वर्ष 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान और उसके बाद भी कई बार डेरे में पहुंच संत निरंजन दास जी का आशीर्वाद लेते रहे हैं।  

बुधवार को डेरा सचखंड बल्ला में संत निरंजन दास से आशीर्वाद लेते हुए पंजाब के नए सीएम चरणजीत सिंह चन्नी।

दोआबा की राजनीति में डेरा सचखंड बल्लां का खास स्थान

बता दें कि दोआबा की राजनीति में डेरा सचखंड बल्ला का विशेष स्थान है। वैसे तो यह धार्मिक स्थल है लेकिन पंजाब और देश भर में बड़ी संख्या में इसके अनुयायी मौजूद होन के कारण इसका राजनीतिक महत्व बढ़ जाता है। यही कारण है कि पंजाब के सभी बड़े नेता चुनाव से पहले या कोई बड़ी राजनीतिक पारी आरंभ करने से पहले डेरा सचखंड बल्ला में नतमस्तक होने अवश्य जाते हैं। 

यह भी पढ़ें - श्री हरमंदिर साहिब में नतमस्तक हुए मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी व नवजोत सिद्धू, जलियांवाला बाग में शहीदों की श्रद्धांजलि दी

यह भी पढ़ें - दोआबा से कौन बनेगा मंत्री, दावेदारों का इंतजार हुआ लंबा, परगट व गिलजियां को जल्दबाजी पड़ रही भारी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.