शह और मात के खेल की मल्लिका को मिलेगा नेशनल अवार्ड, दिल्‍ली में होंगी सम्मानित Jalandhar News

जालंधर, जेएनएन। शहर की जानी-मानी हस्ती मल्लिका हांडा बेशक बोलने और सुनने में असमर्थ है। लेकिन जब उसकी अंगुलियां शह और मात के खेल चेस बोर्ड पर चलती हैं तो हाथी, घोड़े, प्यादे और राजा रानी सिर्फ उसी की सुनते हैं। मल्लिका ने चेस में कई राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीते हैं। इसी साल स्वतंत्रता दिवस पर अंतर राष्ट्रीय स्तर पर जालंधर का परचम फहराने वाली हांडा को मुख्य अतिथि रहे खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी भी सम्मानित कर चुके हैं।

मल्लिका की इसी प्रतिभा के कारण उसका चयन राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए हुआ है। मिनिस्ट्री ऑफ सोशल जस्टिस ऑफ एम्पावरमेंट के विभाग डिपार्टमेंट ऑफ एम्पावरमेंट ऑफ पर्सन विद डिस्एबिलिटी की ओर से शुक्रवार को नेशनल अवार्ड की घोषणा की गई। तीन दिसंबर को दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित होने वाले समारोह में जालंधर के ग्रीन एवेन्यू निवासी मल्लिका हांडा समेत पंजाब के तीन लोगों को ये पुरस्कार दिया जाएगा। अन्य खिलाडिय़ों में कपूरथला के मंगल सिंह तथा बठिंडा से यशवीर सिंह शामिल हैं।

मल्लिका की ओर से जीते गए पुरस्कार ओपन इंडीविजुअल डेफ चैस चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक पंजाब स्टेट डेफ चेस चैंपियनशिप में स्वर्ण 2012 में जयपुर में हुई नेशनल सीनियर चैंपियनशिप में स्वर्ण जुलाई 2018 में आइसीसीडी डेफ चेस ओलंपियाड ब्लिट्ज में रजत 2015 में मंगोलिया में आयोजित एशियाई महिला चैंपियनशिप में स्वर्ण 2016 में आर्मेनिया में आयोजित विश्व ओपन व्यक्तिगत प्रतियोगिता में स्वर्ण व रजत 2017 में एशियाई दिव्यांग चैंपियनशिप में रजत पांच बार राष्ट्रीय चैंपियन

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.