Jalandhar Air Show: जोखिम भरी है बादलों में फार्मेशन फ्लाइंग, सिर्फ 5 मीटर की दूरी पर उड़ते हैं विमान

शनिवार को जालंधर छावनी के कटोच स्टेडियम में बेहद कम ऊंचाई वाले बादलों की वजह से सूर्य किरण एरोबैटिक्स टीम का एयर शो रद कर दिया गया था। स्क्वाड्रन लीडर दीपांकर गर्ग ने कहा कि बादल होने पर पायलट साथ उड़ रहे विमान को भी देख नहीं पाते हैं।

Pankaj DwivediSun, 19 Sep 2021 11:35 AM (IST)
सूर्य किरण एयरोबैटिक्स टीम के सदस्य स्क्वाड्रन लीडर दीपांकर गर्ग।

मनुपाल शर्मा, जालंधर।  Surya Kiran Aerobatic Show Jalandhar अत्यंत कम विजिबिलिटी में बादलों के बीच उड़ना भारतीय वायुसेना की सूर्य किरण टीम के विमानों के लिए बेहद जोखिम भरा है। सूर्य किरण टीम के विमान फार्मेशन फ्लाइंग करते हैं और 9 विमान इकट्ठे आसमान में करतब दिखाते हैं। शनिवार को जालंधर छावनी के कटोच स्टेडियम में बेहद कम ऊंचाई वाले बादलों की वजह से सूर्य किरण एरोबैटिक्स टीम का एयर शो रद हो जाने के बाद टीम सदस्य स्क्वाड्रन लीडर दीपांकर गर्ग ने कहा कि टीम के विमान एक दूसरे से लगभग 5 मीटर की दूरी पर रफ्तार से उड़ान भरते हैं। इस दौरान विमान विभिन्न एयरोबैटिक्स एक्सरसाइज एवं मैनूवरिंग करते हैं। इसके लिए पायलट के लिए विजिबिलिटी बेहद अहमियत रखती है। बादलों में तो पायलट साथ उड़ रहे विमान को भी देख नहीं पाते हैं। इस वजह से फॉर्मेशन फ्लाइंग बेहद जोखिमपूर्ण हो जाती है।

उन्होंने कहा कि यही वजह है कि शनिवार को जालंधर छावनी के कटोच स्टेडियम के ऊपर बेहद कम ऊंचाई वाले बादल थे, जिस वजह से विमानों के पहुंच जाने के बावजूद भी एयर शो को रद कर देना पड़ा। 9 विमानों के साथ फार्मेशन में उड़ान भरने वाली सूर्य किरण एयरोबैटिक्स टीम की तीन विमानों वाली मध्य लाइन के दाईं तरफ उड़ान भरने वाले स्क्वाड्रन लीडर दीपांकर गर्ग चंडीगढ़ से संबंधित हैं। सूर्य किरण टीम 21 एवं 22 सितंबर को चंडीगढ़ सुखना लेक के ऊपर एयर शो देने वाली है, जिसे लेकर दीपांकर गर्ग खासे उत्साहित हैं। स्क्वाड्रन लीडर दीपांकर गर्ग ने कहा कि 10 वर्ष में यह पहला मौका होगा, जब वह अपने शहर के ऊपर सूर्य किरण टीम के साथ एयरोबैटिक्स दिखा सकेंगे।

बता दें कि वर्ष 1971 के भारत-पाक युद्ध में विजय के 50 वर्ष पूरे होने के अवसर पर भारतीय वायु सेना की ओर से देश के विभिन्न शहरों में एयर शो आयोजित किए जा रहे हैं। इस कड़ी में पहले ही लुधियाना में गत 14 सितंबर को एयर शो का आयोजन किया जा चुके हैं।

यह भी पढ़ें - Punjab Conress Crisis: कांग्रेस की प्रयोगशाला बना पंजाब, विधानसभा चुनाव से पहले सीएम का तख्‍ता पलट  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.